ग्रहण में क्या करे 324

👉🏿ग्रहण के समय पालनीय नियम*
*👉🏿(1) ग्रहण-वेध के पहले जिन पदार्थों में कुश या तुलसी की पत्तियाँ डाल दी जाती हैं, वे पदार्थ दूषित नहीं होते । जबकि पके हुए अन्न का त्याग करके उसे पशुओं को डालकर नया भोजन बनाना चाहिए ।*

*👉🏿(2) सामान्य दिन से चन्द्रग्रहण में किया गया पुण्यकर्म (जप, ध्यान, दान आदि) एक लाख गुना । यदि गंगा-जल पास में हो तो चन्द्रग्रहण में एक करोड़ गुना फलदायी होता है ।*

*👉🏿(3) ग्रहण-काल जप, दीक्षा, मंत्र-साधना (विभिन्न देवों के निमित्त) के लिए उत्तम काल है ।*

*👉🏿(4) ग्रहण के समय गुरुमंत्र, इष्टमंत्र अथवा भगवन्नाम जप अवश्य करें, न करने से मंत्र को मलिनता प्राप्त होती है|*
*👉🏿:1. ग्रहण की अवधि में तेल लगाना, भोजन करना, जल पीना, मल-मूत्र त्‍याग करना,सोना, केश विन्‍यास करना, रति क्रीडा करना, मंजन करना,वस्‍त्रनीचोड़्ना,ताला खोलना, वर्जित किए गये हैं ।*
*2. ग्रहण के समय सोने से रोग पकड़ता है, लघुशंका करने से घर में दरिद्रताआती है,मल त्यागने से पेट में कृमि रोग पकड़ता है, स्त्री प्रसंग करने से सूअर की योनि मिलती है और मालिश या उबटन किया तो व्यक्ति कुष्‍ठ रोगी होता है।*
*👉🏿क्या नही करना चाहिए*
*👉🏿3. देवी भागवत में आता हैः सूर्यग्रहण या चन्द्रग्रहण के समय भोजन करने वाला*

*मनुष्य जितने अन्न के दाने खाता है, उतने वर्षों तक अरुतुन्द नामक नरक में वास करता है फिर वह उदर रोग से पीड़ित मनुष्य होताहैफिरगुल्मरोगी,काना और दंतहीन होता है।*
*👉🏿4. सूर्यग्रहण में ग्रहण से चार प्रहर पूर्वऔरचंद्रग्रहण में तीन प्रहर पूर्व भोजन नहीं करना चाहिए (1 प्रहर = 3 घंटे) । बूढ़े, बालक और रोगी एकप्रहर पूर्व खा सकते हैं ।*
*👉🏿5. ग्रहण के दिन पत्‍ते, तिनके, लकड़ी और फूल नहीं तोड़ना चाहिए*
*👉🏿6. ‘स्कंद पुराण’ के अनुसार ग्रहण के अवसर पर दूसरे का अन्न खाने से बारह वर्षो का एकत्र किया हुआ सब पुण्य नष्ट हो जाता है ।*
*👉🏿7. ग्रहण के समय कोई भी शुभ या नया कार्य शुरू नहीं करना चाहिए।*
*👉🏿मंत्र सिद्धि करे*
*👉🏿चन्द्रग्रहण और सूर्यग्रहण के समय संयम रखकर जप-ध्यान करने से कई गुना फल होता है।*
*👉🏿श्रेष्ठ साधक उस समय उपवासपूर्वक ब्राह्मी घृत का स्पर्श करके ‘ॐ नमो नारायणाय’ मंत्र का आठ हजार जप करने के पश्चात ग्रहणशुद्ध होने पर उस घृत को पी ले।*
*👉🏿ऐसा करने से वह मेधा (धारणाशक्ति), कवित्वशक्ति तथा वाकसिद्धि प्राप्त कर लेता है।*

           🙏जय श्री राम 🙏

Hanuman ji aliganj (new temple)

You may see Aliganj Hanuman ji temple near neera nursing home kapoorthala, this is a very famous Hanuman ji temple. Any one who is spiritually inclined must visit this place of Hanuman ji.  There is a story associated with Aliganj (new temple) ,Lucknow .

as per a story which is famous here it is that in those old days When lord Ram was on earth in human form Gomti river used to flow from this place. Sita ji was exhiled from kingdom of Ayodhya Laxman ji and hanuman ji were accompanying Sita ji to Bithur ashram of sage valmiki while moving out of boundaries of Ayodhya they had rested at this place. Laxman ji had requested to Sita ji to visit next stoppage which was police station of Ayodhya kingdom in the outer areas. However Sitaji was exhiled and she was not willing to go in boundaries of Ayodhya kingdom. Hence Laxman ji went on further but Sita ji had stayed at this place. Lord Hanuman guarded the place. Next day the went to Kanpur Bithur ashram of sage valmiki. Later on a temple was constructed at this place. This temple existed for centuries. The near by area came to be known as Hanuman bari . Later on in 14th century with invasion of Bakhtiyar Khilji name of this place was changed to Islambari.

During 1792-1802 wife of the then nawab of lucknow (awadh province in those days) Rabiya Begum did not had child for many years. Later on Rabiya begum had tried all sort of traditional medicines, prayers , duas etc prevalent in those days how ever nothing worked. One day some one suggested her to go to Islambari and make a dua (supplication) for herself so Rabiya begum went and made supplication then one night she had a dream where her unborn child told her in dream that in that area Islambari, an idol of Hanuman ji is underground some where. If she can dig the ground and manage to excavate ground and get the idol she should establish Hanuman ji temple at that place. Rabiya begum as being guided in dream excavated the ground at that place and found the idol she brought the idol up cleaned it and it was decorated.Servants of Nawab seated the idol on an elephant and they were moving from this place to some location where they can establish the temple of Hanuman ji . It is said that while moving from this place in Aliganj the elephant could not walk further . The idol with all the decoration and frame was kept on ground the elephant stood up but when the idol was again kept on elephants back the elephant could not walk again.Later on a sadhu (sage) of islam bari said to queen that probably Hanuman ji does not want to go further because that area (adjacent to river Gomti. ) is of Laxman ji . Geographic location of Gomti river in those days was near this place but later on the course of flow had changed this is as per the stories prevalent in area. Hence the Rabia begum (queen of nawab Mohammad Ali Shah got a temple constructed at current place and appointed the sadhu an official priest at expense of Nawab of Awadh. For the construction of Hanuman temple land was given from Mahmoodabad state near by for free and that sadhu who had suggested hanuman ji does not want to move further was appointed priest there.

There are some other stories also famous at this place shall update them here.

The idol is an old one and it is said that Hanuman ji had given dream to someone in those days and this idol was extracted from ground. Later on as per Hanuman ji wish this idol was being carried on an elephant and the elephant stopped at this place where the current idol as shown in image is present. That is how this current idol got established at its place.

Another story is there about this temple which says once grandmother of Nawab Wajid Ali shah  became sick. Name of grandmother Aliya begum.She became sick and she had made a supplication she became allright from that time here a fair is conducted in hindu lunar calendar of Jyestha. This month usually falls in June-July.

Also another story is famous that once plague had spread in this area and people became alright when the came to shelter of hanuman ji and then a local fair has been conducted since then every year.

How to reach: Visit Charbagh Railway Station Lucknow from there bus number 33C goes to Kapoorthala. Get down at Kapoorthala and from there it is at walking distance. It is an age old  place of worship. pic1

You may copy the image and redistribute it to your friends relatives any one who is willing to worship Hanuman ji. Here is a link to Google maps to make you clearly understand location
1) https://goo.gl/maps/CC9Jx4MGxn92

2) https://www.google.co.in/maps/dir/Charbagh+Railway+Station+Bus+Stop,+National+Highway+25,+Cash+and+Pay+Colony,+Charbagh,+Lucknow,+Uttar+Pradesh/New+Hanuman+Mandir,+C-8,+Shivani+Plaza,+Near+ITI+Chauraha,+Aliganj,+Mahanagar+Extension,+Shadab+Colony,+Mahanagar,+Lucknow,+Uttar+Pradesh+226024/@26.8581072,80.9065472,13z/data=!3m1!4b1!4m13!4m12!1m5!1m1!1s0x399bfc4c900d1197:0x88d53e1e9f3df700!2m2!1d80.927031!2d26.8327065!1m5!1m1!1s0x399957d6195e25bb:0xa9b147a1af2a7a5f!2m2!1d80.94947!2d26.88342

राम वंशावली

*कभी सोचा है की प्रभु श्री राम के दादा परदादा का नाम क्या था?*

*नहीं तो जानिय…

*1 -* ब्रह्मा जी से मरीचि हुए,

*2 -* मरीचि के पुत्र कश्यप हुए,

*3 -*कश्यप के पुत्र विवस्वान थे,

*4 -*विवस्वान के वैवस्वत मनु हुए.वैवस्वत मनु के समय जल प्रलय हुआ था,

*5 -* वैवस्वतमनु के दस पुत्रों में से एक का नाम इक्ष्वाकु था, इक्ष्वाकु ने अयोध्या को अपनी राजधानी बनाया और इस प्रकार इक्ष्वाकु कुलकी स्थापना की |

*6 -*इक्ष्वाकु के पुत्र कुक्षि हुए,

*7 -*कुक्षि के पुत्र का नाम विकुक्षि था,

*8 -*विकुक्षि के पुत्र बाण हुए,

*9 -*बाण के पुत्र अनरण्य हुए,

*10-* अनरण्य से पृथु हुए,

*11-* पृथु से त्रिशंकु का जन्म हुआ,

*12-* त्रिशंकु के पुत्र धुंधुमार हुए,

*13-*धुन्धुमार के पुत्र का नाम युवनाश्व था,

*14-*युवनाश्व के पुत्र मान्धाता हुए,

*15-* मान्धाता से सुसन्धि का जन्म हुआ,

*16-*सुसन्धि के दो पुत्र हुए- ध्रुवसन्धि एवं प्रसेनजित,

*17-*ध्रुवसन्धि के पुत्र भरत हुए,

*18-*भरत के पुत्र असित हुए,

*19-*असित के पुत्र सगर हुए,

*20-* सगर के पुत्र का नाम असमंज था,

*21-*असमंज के पुत्र अंशुमान हुए,

*22-*अंशुमान के पुत्र दिलीप हुए,

*23-*दिलीप के पुत्र भगीरथ हुए, भागीरथ ने ही गंगा को पृथ्वी पर उतारा था.भागीरथ के पुत्र ककुत्स्थ थे |

*24-*ककुत्स्थ के पुत्र रघु हुए, रघु के अत्यंत तेजस्वी और पराक्रमी नरेश होने के कारण उनके बाद इस वंश का नाम रघुवंश हो गया, तब से श्री राम के कुल को रघु कुल भी कहा जाता है |

*25-*रघु के पुत्र प्रवृद्ध हुए,

*26-*प्रवृद्ध के पुत्र शंखण थे,

*27-*शंखण के पुत्र सुदर्शन हुए,

*28-* सुदर्शन के पुत्र का नाम अग्निवर्ण था,

*29-*अग्निवर्ण के पुत्र शीघ्रग हुए,

*30-*शीघ्रग के पुत्र मरु हुए,

*31-*मरु के पुत्र प्रशुश्रुक थे,

*32-*प्रशुश्रुक के पुत्र अम्बरीष हुए,

*33-*अम्बरीष के पुत्र का नाम नहुष था,

*34-*नहुष के पुत्र ययाति हुए,

*35-*ययाति के पुत्र नाभाग हुए,

*36-*नाभाग के पुत्र का नाम अज था,

*37-* अज के पुत्र दशरथ हुए,

*38-* दशरथ के चार पुत्र राम, भरत, लक्ष्मण तथा शत्रुघ्न हुए |

इस प्रकार ब्रह्मा की उन्चालिसवी *(39)*पीढ़ी में श्रीराम का जन्म हुआ | शेयर करे ताकि हर हिंदू इस जानकारी को जाने..
*रामचरित मानस के कुछ रोचक तथ्य*
*1:~*मानस में राम शब्द = 1443 बार आया है।

*2:~*मानस में सीता शब्द = 147 बार आया है।

*3:~*मानस में जानकी शब्द = 69 बार आया है।

*4:~*मानस में बैदेही शब्द = 51 बार आया है।

*5:~*मानस में बड़भागी शब्द = 58 बार आया है।

*6:~*मानस में कोटि शब्द = 125 बार आया है।

*7:~*मानस में एक बार शब्द = 18 बार आया है।

*8:~*मानस में मन्दिर शब्द = 35 बार आया है।

*9:~*मानस में मरम शब्द = 40 बार आया है।
*10:~*लंका में राम जी = 111 दिन रहे।

*11:~*लंका में सीताजी = 435 दिन रहीं।

*12:~*मानस में श्लोक संख्या = 27 है।

*13:~*मानस में चोपाई संख्या = 4608 है।

*14:~*मानस में दोहा संख्या = 1074 है।

*15:~*मानस में सोरठा संख्या = 207 है।

*16:~*मानस में छन्द संख्या = 86 है।
*17:~*सुग्रीव में बल था = 10000 हाथियों का।

*18:~*सीता रानी बनीं = 33वर्ष की उम्र में।

*19:~*मानस रचना के समय तुलसीदास की उम्र = 77 वर्ष थी।

*20:~*पुष्पक विमान की चाल = 400 मील/घण्टा थी।

*21:~*रामादल व रावण दल का युद्ध = 87 दिन चला।

*22:~*राम रावण युद्ध = 32 दिन चला।

*23:~*सेतु निर्माण = 5 दिन में हुआ।
*24:~*नलनील के पिता = विश्वकर्मा जी हैं।

*25:~*त्रिजटा के पिता = विभीषण हैं।
*26:~*विश्वामित्र राम को ले गए =10 दिन के लिए।

*27:~*राम ने रावण को सबसे पहले मारा था = 6 वर्ष की उम्र में।

*28:~*रावण को जिन्दा किया = सुखेन बेद ने नाभि में अमृत रखकर।

सन्यासी की कहानी 43

(((((((((( सच्चा सन्यास ))))))))))

.

एक व्यक्ति प्यास से बेचैन भटक रहा था. उसे गंगाजी दिखाई पड़ी. पानी पीने के लिए नदी की ओर तेजी से भागा लेकिन नदी तट पर पहुंचने से पहले ही बेहोश होकर गिर गया.

.

थोड़ी देर बाद वहां एक संन्यासी पहुंचे. उन्होंने उसके मुंह पर पानी का छींटा मारा तो वह होश में आया. व्यक्ति ने उनके चरण छू लिए और अपने प्राण बचाने के लिए धन्यवाद करने लगा.

.

संन्यासी ने कहा- बचाने वाला तो भगवान है. मुझमें इतना सामर्थ्य कहां है ? शक्ति होती तो मेरे सामने बहुत से लोग मरे मैं उन्हें बचा न लेता. मैं तो सिर्फ बचाने का माध्यम बन गया.

.

इसके बाद संन्यासी चलने को हुए तो व्यक्ति ने कहा कि मैं भी आपके साथ चलूंगा. संन्यासी ने पूछा- तुम कहां तक चलोगे. व्यक्ति बोला- जहां तक आप जाएंगे.

.

संन्यासी ने कहा मुझे तो खुद पता ही नहीं कि कहां जा रहा हूं और अगला ठिकाना कहां होगा. संन्यासी ने समझाया कि उसकी कोई मंजिल नहीं है लेकिन वह अड़ा रहा. दोनों चल पड़े.

.

कुछ समय बाद व्यक्ति ने कहा- मन तो कहता है कि आपके साथ ही चलता रहूं लेकिन कुछ टंटा गले में अटका है. वह जान नहीं छोड़ता. आपकी ही तरह भक्तिभाव और तप की इच्छा है पर विवश हूं.

.

संन्यासी के पूछने पर उसने अपने गले का टंटा बताना शुरू किया. घर में कोई स्त्री और बच्चा नहीं है. एक पैतृक मकान है उसमें पानी का कूप लगा है.

.

छोटा बागीचा भी है. घर से जाता हूं तो वह सूखने लगता है. पौधों का जीवन कैसे नष्ट करूं. नहीं रहने पर लोग कूप को गंदा करते हैं. नौकर रखवाली नहीं करते, बैल भूखे रहते हैं. बेजुबान जानवर है उसे कष्ट दूं.

.

बहुत से संगी-साथी हैं जो मेरे नहीं होने से उदास होते हैं, उनके चेहरे की उदासी देखकर उनका मोह भी नहीं छोड़ पाता.

.

दादा-परदादा ने कुछ लेन-देन कर रखा था. उसकी वसूली भी देखनी है. नहीं तो लोग गबन कर जाएंगे. अपने नगर से भी प्रेम है.

.

बाहर जाता हूं तो मन उधर खिंचा रहता है. अपने नगर में समय आनंदमय बीत जाता है. लेकिन मैं आपकी तरह संन्यासी बनना चाहता हूं. राह दिखाएं.

.

संन्यासी ने उसकी बात सुनी फिर मुस्कराने. लगे. उन्होंने कहा- जो तुम कर रहे हो वह जरूरी है. तुम संन्यास की बात मत सोचो. अपना काम करते रहो.

.

व्यक्ति उनकी बात समझ तो रहा था लेकिन उस पर संन्यासी बनने की धुन भी सवार थी.

.

चलते-चलते उसका नगर आ गया. उसे घर को देखने की इच्छा हुई. उसने संन्यासी से बड़ी विनती की- महाराज मेरे घर चलें. कम से कम 15 दिन हम घर पर रूकते हैं. सब निपटाकर फिर मैं आपके साथ निकल जाउंगा.

.

संन्यासी मुस्कुराने लगे और खुशी-खुशी तैयार हो गए. उसकी जिद पर संन्यासी रूक गए और उसे बारीकी से देखने लगे.

.

सोलहवें दिन अपना सामान समेटा और निकलने के लिए तैयार हो गए. व्यक्ति ने कहा-महाराज अभी थोड़ा काम रहता है. पेड़-पौधों का इंतजाम कर दूं. बस कुछ दिन और रूक जाएं निपटाकर चलता हूं.

.

संन्यासी ने कहा- तुम हृदय से अच्छे हो लेकिन किसी भी वस्तु से मोह त्यागने को तैयार ही न हो. मेरे साथ चलने से तुम्हारा कल्याण नहीं हो सकता. किसी भी संन्यासी के साथ तुम्हारा भला नहीं हो सकता.

.

उसने कहा- कोई है ही नहीं तो फिर किसके लिए लोभ-मोह करूं.

.

संन्यासी बोले- यही तो और चिंता की बात है. समाज को परिवार समझ लो, उसकी सेवा को भक्ति. ईश्वर को प्रतिदिन सब कुछ अर्पित कर देना. तुम्हारा कल्याण हो इसी में हो जाएगा. कुछ और करने की जरूरत नहीं.

.

वह व्यक्ति उनको कुछ दूर तक छोड़ने आया. विदा होते-होते उसने कहा कि कोई एक उपदेश तो दे दीजिए जो मेरा जीवन बदल दे.

.

संन्यासी हंसे और बोले- सत्य का साथ देना, धन का मोह न करना. उन्होंने विदा ली.

.

कुछ साल बाद वह संन्यासी फिर वहां आए. उस व्यक्ति की काफी प्रसिद्धि हो चुकी थी. सभी उसे पक्का और सच्चा मानते थे. लोग उससे परामर्श लेते. छोटे-मोटे विवाद में वह फैसला देता तो सब मानते.उसका चेहरा बताता था कि संतुष्ट और प्रसन्न है.

.

संन्यासी कई दिन तक वहां ठहरे. फिर एक दिन अचानक तैयार हो गए चलने को.

.

उस व्यक्ति ने कहा- आप इतनी जल्दी क्यों जाने लगे. आपने तो पूछा भी नहीं कि मैं आपके उपदेश के अनुसार आचरण कर रहा हूं कि नहीं.

.

संन्यासी ने कहा- मैंने तुम्हें कोई उपदेश दिया ही कहां था ? पिछली बार मैंने देखा कि तुम्हारे अंदर निर्जीवों तक के लिए दया है लेकिन धन का मोह बाधा कर रहा था. वह मोह तुम्हें असत्य की ओर ले जाता था हालांकि तुम्हें ग्लानि भी होती थी.

.

तुम्हारा हृदय तो सन्यास के लिए ऊर्वर था. बीज पहले से ही पड़े थे, मैंने तो बस बीजों में लग रही घुन के बारे में बता दिया. तुमने घुन हटा दी और फिर चमत्कार हो गया. संन्यास संसार को छोड़कर ही नहीं प्राप्त होता. अवगुणों का त्याग भी संन्यास है.

*********************

हम सब में उस व्यक्ति की तरह सदगुण हैं. जरूरत है उन्हें निखारने की. निखारने वाले की. अपने काम करने के तरीके में थोड़ा बदलाव करके आप चमत्कार कर सकते हैं.

.

एक बदलाव आजमाइए- हर किसी से प्रेम से बोलें. उनसे ज्यादा मीठा बोलेंगे जिन पर आपका शासन है. आपमें जो मधुरता आ जाएगी वह जीवन बदल देगी. कम से कम इसे आजमाकर देखिए.

~~~~~~~~~~

​नारदजी की जन्म कथा 🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹

नारदजी की जन्म कथा 

🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹

देवर्षि नारद पहले गन्धर्व थे। एक बार ब्रह्मा जी की सभा में सभी देवता और गन्धर्व भगवन्नाम का संकीर्तन करने के लिए आए। नारद जी भी अपनी स्त्रियों के साथ उस सभा में गए। भगवान के संकीर्तन में विनोद करते हुए देखकर ब्रह्मा जी ने इन्हें शाप दे दिया। जन्म लेने के बाद ही इनके पिता की मृत्यु हो गई। इनकी माता दासी का कार्य करके इनका भरण-पोषण करने लगीं।
एक दिन गांव में कुछ महात्मा आए और चातुर्मास्य बिताने के लिए वहीं ठहर गए। नारद जी बचपन से ही अत्यंत सुशील थे। वह खेलकूद छोड़ कर उन साधुओं के पास ही बैठे रहते थे और उनकी छोटी-से-छोटी सेवा भी बड़े मन से करते थे। संत-सभा में जब भगवत्कथा होती थी तो यह तन्मय होकर सुना करते थे। संत लोग इन्हें अपना बचा हुआ भोजन खाने के लिए दे देते थे।
साधुसेवा और सत्संग अमोघ फल प्रदान करने वाला होता है। उसके प्रभाव से नारद जी का हृदय पवित्र हो गया और इनके समस्त पाप धुल गए। जाते समय महात्माओं ने प्रसन्न होकर इन्हें भगवन्नाम का जप एवं भगवान के स्वरूप के ध्यान का उपदेश दिया।
एक दिन सांप के काटने से उनकी माता जी भी इस संसार से चल बसीं। अब नारद जी इस संसार में अकेले रह गए। उस समय इनकी अवस्था मात्र पांच वर्ष की थी। माता के वियोग को भी भगवान का परम अनुग्रह मानकर ये अनाथों के नाथ दीनानाथ का भजन करने के लिए चल पड़े। एक दिन जब नारद जी वन में बैठकर भगवान के स्वरूप का ध्यान कर रहे थे, अचानक इनके हृदय में भगवान प्रकट हो गए और थोड़ी देर तक अपने दिव्य स्वरूप की झलक दिखाकर अन्तर्धान हो गए।
भगवान का दोबारा दर्शन करने के लिए नारद जी के मन में परम व्याकुलता पैदा हो गई। वह बार-बार अपने मन को समेट कर भगवान के ध्यान का प्रयास करने लगे, किंतु सफल नहीं हुए। उसी समय आकाशावाणी हुई, ‘‘अब इस जन्म में फिर तुम्हें मेरा दर्शन नहीं होगा। अगले जन्म में तुम मेरे पार्षद रूप में मुझे पुन: प्राप्त करोगे।’’
समय आने पर नारद जी का पांच भौतिक शरीर छूट गया और कल्प के अंत में वह ब्रह्मा जी के मानस पुत्र के रूप में अवतीर्ण हुए। देवर्षि नारद भगवान के भक्तों में सर्वश्रेष्ठ हैं। यह भगवान की भक्ति और महात्म्य के विस्तार के लिए अपनी वीणा की मधुर तान पर भगवद् गुणों का गान करते हुए निरंतर विचरण किया करते हैं। इन्हें भगवान का मन कहा गया है। इनके द्वारा प्रणीत भक्ति सूत्र में भक्ति की बड़ी ही सुंदर व्याख्या है। अब भी यह अप्रत्यक्ष रूप से भक्तों की सहायता करते रहते हैं। भक्त प्रह्लाद, भक्त अम्बरीष, ध्रुव आदि भक्तों को उपदेश देकर इन्होंने ही उन्हें भक्ति मार्ग में प्रवृत्त किया। इनकी समस्त लोकों में अबाधित गति है। इनका मंगलमय जीवन संसार के मंगल के लिए ही है। यह ज्ञान के स्वरूप, विद्या के भंडार, आनंद के सागर तथा सब भूतों के अकारण प्रेमी और विश्व के सहज हितकारी हैं। 
अविरल भक्ति के प्रतीक और ब्रह्मा के मानस पुत्र माने जाने वाले देवर्षि नारद का मुख्य उद्देश्य प्रत्येक भक्त की पुकार भगवान तक पहुंचाना है। वह विष्णु के महानतम भक्तों में माने जाते हैं और इन्हें अमर होने का वरदान प्राप्त है। भगवान विष्णु की कृपा से यह सभी युगों और तीनों लोगों में कहीं भी प्रकट हो सकते हैं।
     ।।  नारायण नारायण ।।
🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹

अयोध्या के दर्शन एवं यात्रा” 

“अयोध्या के दर्शन एवं यात्रा” 
🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿
अयोध्या नगरी की यात्रा करने की अभिलाषा मुझे कई बर्षो से थी | अयोध्या नगरी जहाँ भगवान का जन्म हुआ, जहा महाकाव्य रामायण की शुरूवात हुई और जहाँ रामायण का समापन्न भी हुआ | अयोध्या नगरी भारत बर्ष में पैदा हुअ बच्चा-बच्चा जानता हैं 

अयोध्या नगरी विभिन्न रंगो में रंगी नगरी हैं, मानो इस पर रंगो का बौछार हुई हो, हर घर हर आश्रम चटर रंगो में रंगा अयोध्या को सजीव एवं चमकदार रूप प्रदान करता हैं |

यहाँ की संकरी गलिया, साईकल, मोटर और मनुष्यो के क्रियाकलापो से गुंजायमान रहती हैं, सही मायनो में यह एक अनोखा एवं अद्भुत शहर हैं | 
    🌷”सरयू नदी”🌷
सरयू नदी का जल एकदम साफ दिखाई पड़ता हैं, नदी में स्नान कर रहा कोई भी व्यक्ति इसकी तलहटी को एकदम साफ निहार सकता हैं, पर्यटक इस नदी को नौका से पार भी करते हैं, मान्यता के अनुसार सरयू नदी को पार कर के ही श्रीराम वन गये थे, नदी के तट पर केवट प्रसंग का स्मरण हो आना अत्यन्त स्वभाविक हैं | 

  

🌷”सरयू जी की आरती “🌷
शाम के समय सरयू नदी पर सरयू आरती होती हैं, मैने इससे पहले ऐसी आरती वाराणसी में गंगा की ऐर बटेश्वर में यमुना की देखी थी, नदीयों के घाचो पर संध्या आरती भी 21वी सदी का नवीन अनुष्ठान प्रतीत होता हैं | हजारो की संख्या में नदी में तैरते हुए मिट्टी के दिये, यह एक अत्यन्त ही मनोहर दृश्य होता हैं|
🌻”गुप्तार घाट”🌻
मेरी सरयू जी कि यात्रा गुप्तार घाट से ही आरम्भ हुई | जो फैजाबाद मे सरयू के दुसरे तट पर स्थित हैं |यह एक अनुठा शांत घाट हैं, जिस पर हल्के पिले रंग का एक भव्य मंदिर हैं | यहा से चाट पकौड़े कि दुकानो के बाजु में रंगबिरंगे नावे भी दिखाई दे रही थी | गुप्तार घाट से जुड़ी दंकथा कहती हैं, कि भगवान राम ने सरयू नदी में जलसमाधी हेतु इसी घाट से प्रवेश किये थे |

सरयू नदी का पाट अत्यंत चौड़ा हैं, उस पर लम्बी नौका सवारी का आनन्द लिया जा सकता हैं | हमे नदी किनारे कई पक्षियों केभी दर्शन हुए | जैसे-जैसे हम अयोध्या के तरफ बढ़ रहे थे, हमे अयोध्या के क्षितिजरेखा दिखाई पड़ने लगी |
 🌼”झुनकी घाट”🌼
गुप्तार घाट से अयोध्या जिस घाट पर पहुचे वह था झुनकी घाट, वराणसी के घाटो से कहीं ज्यादा स्वच्छ एवं भव्य, इस पर ताज़ी सफेदी की हुई थी | मेरे गले मे पड़ी चटक गेंदे की माला मुझे इस स्थान का एक अभित्र अंग महसूस करा रही थी|

यह इतना साफ सुथरा और शांत घाट हैं, कि इस पर सैर करने का एक अलग ही अंदाज हैं |
    🌿”रामघाट”🌿
कहाँ जाता हैं कि इसी घाट पर श्रीराम स्नान किया करते थें|

इसी वजह से यहा आज भी लोग स्नान करते हैं | राम घाट के जल से भगवान को स्नान कराते हैं | उसके बाद अयोध्या का दर्शन करते हैं |
🍃”लक्ष्मण घाट”🍃
झुनकी घाट से थोड़ा आगे जाने पर लक्ष्मण घाट पड़ता हैं| इसी घाट से जुड़ी यह मान्यता हैं, कि राम के भ्राता लक्ष्मण ने इसी घाट पर जलसमाधी ली थी |
🌷”श्रीराम जन्मस्थान”🌷
कहाँ जाता हैं श्रीराम जी जन्म इसी स्थान पर पर हुआ था | श्रीराम जन्मस्थान पर आज भी श्रीरामलला का मुर्ति विरजमान हैं, भक्तगण लम्बी-लम्बी कतारो में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था से गुजरकर श्रीरामलला के दर्शन करते हैं |
🌹”कनक भवन”🌹
लोगो का यह मानना हैंकि महाराज दशरथ और कैकयी ने सिता जी को मुँह देखाई रूप में कनक भवन दिये थे | अयोध्या का कनक भवन बेहद विशाल एवं भव्य मंदिर हैं, राम जानकी कि मुर्ति भी श्रद्धालुओं को मोहित कर देती हैं, तथा श्रीराम जानकी की प्रतिमा हर किसी का संताप हर लेती हैं|
“🌺दशरथ जी का राजमहल”🌺
श्री चक्रवर्ती महाराज दशरथ जी का राज महल बहुत प्राचीन एवं भव्य हैं | इसके परिसर में काफी संख्या में जमा होकर श्रद्धालु भजन-किर्तन गाते हैं |
🌿”दशरथ जी का राजदरबार”🌿

महाराज दशरथ जी का राज्य दरबार बेहद खुबशुरत तथा भव्य हैं, इसका परिसर बहुत बड़ा हैं, इसी दरबार में महाराज दशरथ बैंठ कर न्याय का निर्णय लेते थे |
 🌷”हनुमानगढ़ी”🌷
अयोध्या के बीचोंबीच हनुमानगढ़ी मे रामभक्त हनुमान जी का विशाल प्रसिद मंदिर हैं | ऐसी मान्यता हैं कि अयोध्या में सबसे पहले हनुमानगढ़ी मंदिर में बरंगबली का दर्शन कर के आशिर्वाद लेना चाहिए, फिर अन्य मंदिर जाना चाहिए, ऐसा कहा जाता हैं कि जब भगवान श्रीराम ने जीवन त्याग कर सरयू नदी में समाधी लेने का निश्चय किये तब उन्होने हनुमान को बुलावा भेजे, और उन्हे अपनी अयोध्या की सुरक्षा की जिम्दारी सौंपे

 अयोध्या पर नजर रखने के लिए हनुमान एक पहाड़ पर बैठ गए | ऐसा माना जाता हैं कि उसी पहाड़ पर हनुमानगढ़ी बनाया गया हैं |  मंदिर में हनुमान मुर्ति के स्थान पर एक अनियमित आकार का पत्थर रखा हुआ हैं |

आप जब भी हनुमानगढ़ी के दर्शन जाए उसकी छत पर अवश्य जाए, यहा से सम्पूर्ण अयोध्या नगरी के दर्शन किए जा सकते हैं | 
🍃”दन्तधावन कुण्ड”🍃
अयोध्या नगरी के बीचोबींच हनुमान गढ़ी के इलाके में ही एक बड़ा सा कुंड हैं जो दन्तधावन कुंड के नाम से जाना जाता हैं | इसे ही राम दतौंन कहते हैं, कहा जाता है श्रीराम इसी कुंड के जल से सुबह अपने दांतो की सफाई करते थे |
☘”दिगंबर जैन मंदिर”☘
अयोध्या जैमतावलंबियो के लिए पवित्र तीर्थ हैं मान्यता हैं कि जैंन धर्म के प्रथम तीर्थकर  ऋषभदेव का जन्म यही हुआ था |
🌻”श्रीराम मंदिर कार्यशाला”🌻
अयोध्या में प्रस्तावित श्रीराम मंदिर के निमार्ण के लिए एक कार्शाला बनाई गयी हैं, यहा विशाल पत्थरों के स्तम्भो को बेहद खुबशुरती के साथ तरासा या हैं, जिस पर सुन्दर नक्काशी की गयी हैं, लोग इस स्थान को भी देखने आते हैं |
💧💧💧💧💧💧💧💧💧

ब्रज भक्तमाल कथा* 

💐🌺 *ब्रज भक्तमाल कथा* 🌺💐
  *भगवत रसिक जी का चरित्र*
       श्री राम गोपाल नाम के एक भक्त थे। वह भगवत रसिक जी से विरक्त वेष लेकर भजन करना चाहते थे। लेकिन उसके अंदर झांक कर *श्री भगवत रसिक जी* बोले – तुम अभी घर पर रहकर ही भजन करो, तेरे तुम्हारे अंदर अभी कुछ वासनाएं शेष है। उन्हें भोगकर हमारे पास आ जाना । गुरु आज्ञा मानकर भजन करने लगा और अंत में भगवत रसिक जी के निकुंज गमन के पश्चात वह ही वही जा पहुंचा ।

 गुरु की आज्ञा मानना ही सर्वश्रेष्ठ भजन है। श्री भगवत रसिक जी की स्थिति बहुत ही उठ चुकी थी। देह गेह के भेद का भान ही नहीं था। जाति तो देह की होती है। रसिक अनन्य की कोई जाति नहीं होती। स्वयं मधुकरी वृति से रहते । एक दिन किसी धोबी के घर से मधुकरी ले आए किसी ईर्ष्यालु ने जाकर गुरु जी से शिकायत कर दी। श्री ललित मोहनी दास जी ने भ्रमवश भगवत रसिक जी को वृंदावन से बाहर जाने की आज्ञा दे दी।

भगवत रसिक जी इस निर्णय से बहुत दुखी हुए लेकिन गुरु आज्ञा शिरोधार्य कर यमुना जी के किनारे किनारे वृंदावन को हृदय में बसाकर प्रयाग की ओर चल पड़े। उनके साथ कुछ संत भी हो लिए। जिनमें रसरंग जी, बिहारी बल्लभ जी, मोहनदास आदि प्रमुख थे। मार्ग में एक घनघोर जंगल आया जिसमें एक नरभक्षी सिंह रहता था। मोहन दास जी ने यही विश्राम करने की प्रार्थना की। 

भगवत रसिक जी बोले -डरो मत साथ चलो। सिंह आया तो उसे देखकर भगवत रसिक जी ने अपने करुुआ के जल को उसके ऊपर छिड़का और प्रहलाद जी की कथा सुनाकर उसकी सारी विषमता का हरण करके पीपाजी की तरह भक्त बना दिया ।

सिंह शिष्य बन गया। सभी जय जय कर उठे। भगवत रसिक जी संतो के साथ प्रयाग पहुंचे और अड़ैल के समीप यमुना किनारे एक मड़ी में निवास करने लगे। यही भजन भावना में लीन रहते। कुछ संतो से सुना है एक वयोवृद्ध संत भगवत रसिक जी की वाणी की एक प्रति हस्तलिखित वृंदावन आकर श्री ललित मोहनी दास जी को अमूल्य निधि बताकर भेंट कर गए। उसे पढ़ कर अति प्रसन्न हुए लेकिन एक पद “चेला काहू के नहीं, गुरु काहू के नाहि।’ को देखकर संकोच में पड़ गए कि इसका भक्तों में प्रचार करें कि नहीं । अगले दिन प्रात यमुना स्नान करने गए तो ग्रंथ साथ ले गए। स्नान के पश्चात यमुनाजी में ग्रंथ प्रवाहित कर के वापस आ गये। दूसरे दिन स्नान को गए और डुबकी लगा बाहर निकले तो ग्रंथ उनके हाथ में आ गया।

पुनः प्रवाहित कर के वापस आ गए तीसरे दिन पुनः स्नान को पधारें

तो डुबकी लगाते ही ग्रंथ हाथों में आ गया । ग्रंथ का बस्ता रंच मात्र भी भीगा नहीं था ।

 विचार में पड़ गए क्या करें ? उसी समय यमुना जी बोली- इसे साथ ले जाइए इस ग्रंथ के द्वारा रसिक भक्तों का कल्याण होगा। तब श्री ललित मोहनी जी अपने साथ ले आए। जो इस वाणी को पढ़ता सुनता है उसके हृदय में श्यामा श्याम की नित्यकेलि की लीलाएं प्रगट हो जाती हैं ।

जब श्री भगवत रसिक जी निकुंज महल जाने लगे तो गंगा जी प्रगट हो कर बोली – आप शिवलोक चलिए और उसे पवित्र कीजिए। सरस्वती जी कहने लगी – ब्रह्मा जी आपकी राह देख रहे हैं। 

यमुनाजी मुस्कुराती हुई बोली -चलो वृंदावन चले। वही नित्य स्वरूप से श्यामा श्याम जी की सेवा करना। देवता आदि इंद्र के साथ बोले – आप स्वर्ग चलें वहां सुख भोगे। भगवत रसिक जी बोले – स्वर्ग में सुख विनाशी है । इसलिए हे देवताओं! श्यामा श्याम के समीप वृंदावन जाएंगे। वहां हरिदासी नित्य लाड लड़ाती है। उन्ही के चरणों में हमारी आस्था है।

 ऐसा कहकर प्रयाग में ही अपनी नित्य सखी स्वरूप को धारण करके निकुंज महल के निकुंज परिकर में पांच भौतिक शरीर को छोड़कर जा मिले । प्रयाग में ही इनकी समाधि बनी हुई है । इन महापुरुषों का जीवन चरित्र साधक को साधना का मार्ग प्रशस्त करता है । इसलिए सदैव अपने मन को उन महापुरुषों के परम पावन चरित्रों में निमज्जन कराना चाहिए।

 

🥀🙏🏻 *जय जय श्रीराधे* 🙏🏻🥀