Kal Sarp Dosh, wrong decision making, and kriya yog (part 2)

In a lot of books about Kal Sarp yog people give example of Jawahar Lal Nehru and Sachin Tendulkar that even these people had kal sarp yog  but they reached heights of success, where as fact is just the opposite.

People suffering with Kal Sarp dosh or Rahu malefic effects are very arrogant, and they actually have a tendency not to listen to any one’s suggestion and they can not hear any kind of criticism,People with Kal Sarp yog mostly take decisions which

later on prove to be harmful for their life.
Nehru was betrayed and cheated by a lot of people and later died due to unknown conditions.
At a lot of times his wrong decisions caused trouble specially if you people know that during China war he did not allowed Air Force to strike. Always trusted those who later betrayed him (very malefic kal sarp effect here), a wrong person put to power a lot of people faced the consequences.
Kal Sarp books and astrology books have written things out of context and just to fit the things which happened in past but they failed to analyse the facts completely because they(astrologers) never knew correct things as how history was modified and brought to world.

http://www.bhaskar.com/article/NAT-65-years-of-indian-independence-4347039-NOR.html?seq=6

Same is case with Sachin Tendulkar , Sachin so he could never be a good captain for a good captain one needs to be a good decision maker. My observation has been that people suffering from this yog are unable to fully use their brain and more over such people are very arrogant and when some one tells them their mistakes they will shout at the person and will ignore the correct suggestion by others.
You might have come across many such friends of yours who would not be able to have common sense in a situation where even a child can take right decision.

Case in business like Dhiru Bhai Ambani is also same decision making in business is not a one man decision.So if Dhiru Bhai got success there must have been other supporting factors.

Mostly people with Kal Sarp should practice Yoga,pranayam daily, so that at a later stage in life they do not have kidney failures,diabetes,cancer  and wear a Gomed (only if it suits),with an emerald to clear off the confusion.

Worship Bhairav and Durga in their life.This yog does not “necessarily” comes due to snake killings, there can be many sins from past lifes which are responsible for presence of this yog in a persons horoscope. But remember planets are bound by karmic laws they can not give you more punishment than you deserve so, changing destiny is definitely possible.For that you need to practise Kriya Yog and do Kundalini Jagran, roots of astrology lie in Kriya yog and Kundalini Jagran. Remedies of ancestors which you can find a lot on internet also helps.

If you can balance your kundalini then a lot of malefic things get nullified because planets affects the chakra’s in body and which in turn disturb the sthool sharir (physical body),we all have 3 body, one is the body which we see, the other 2 bodies only Yogi’s can see.

A problem which comes to you first appears in sookshm sharir and if you clean it there itself there by means of Kriya yog that problem will not come to physical body or life.Unfortunately Tantriks and Yogis of that high order who know all this are very few in number.

Malefic planets apart from disturbing the kundalini Chakra in backbone of your body affect decision making the kind of thoughts you will get will ultimately lead you to your failure.So if you want to get above all this practise Kriya Yog and do Kundalini Jagran along with meditation etc.

Yogic Sadhna’s are not easy and it can take 40-50 years and in most cases many births for Kundalini Jagran. If you really have that patience you can come out of karmic cycle, these things are awakened by Chanting Mantra, Stotra, etc and Bhakti also.

The presence of a yog in horsocope is just reflecting that his body is getting affected negatively by a few energies in atmosphere and how they are affecting it.It is possible to purify it with Yogic exercises/tantric sadhna’s which can clean your aura.

How ever some times Chanting the wrong mantra or stotra can cause problems also because kundalini (serpent power) within body rises and pierces your Chakra’s so a lot of pooja,worship etc might as well harm you.That was the reason we used to have Guru’s in old times who were capable of understanding all this. These days people do not know all this and the result is people keep doing remedies without even knowing if it is working or not.

भोजन से ग्रह बदले

16 Dec 2012

भोजन से ग्रह बदले
पूजा और व्यवहार से ग्रहों को अपने अनुकूल करे स्वयं को परिवर्तित करे

किसी का सूर्य कुपित हो या नीच का हो के बुरे परिणाम दे रहा हो  तो  आदमी को नमक कम खाना चाहिए ,
गुड़ जरूर खाए ,विटामिन डी जरूर ले ,
सूर्य यदि 11वे भाव में हो और मांसाहार  शराब  खाता हो तो संतान का सुख बेहद कठिनाई से मिलता है

11 वे भाव का सूर्य संतान से रिलेशन ख़राब कर देगा ,
यदि सूर्य 11वे भाव में है और यदि  ख़राब  है तो संतान होने के बाद भी यदि ऐसा व्यक्ति
शराब और मांसाहार का सेवन करे तो उसके संतान के साथ संबंध बहुत ख़राब हो जाते है और
उसकी संतान उससे बहुत दूर चली जाती है ,

आपको मोक्ष तब मिलेगा जब आप अपने दायित्वों का सही तरीके से निर्वाह कर सके लेकिन
यदि सूर्य ख़राब है तो आप अपने दयित्ब आसानी से निभा नहीं पाएंगे ,लोग इतना उलझ जाते है की हो ही नहीं पाता

खास तौर पे यदि आप मांस मदिरा इत्यादि का सेवन करते है तो आपको अपने पुत्र से वियोग झेलना पड़ेगा ,

जाड़ो में अधिक  तली हुई वस्तुए नहीं खानी चाहिये वरना नुकसान होगा (जबकि जाड़ो में अधिक तली हुई वस्तुये बहुत पसंद आती है )

चंद्रमा कुपित हो के बुरे परिणाम देने लगे तो कभी भूलकर भी मांसाहार मत लीजियेगा
जल पिये विटामिन c जरूर ले ,चंद्रमा जब भी ख़राब होगा शरीर में जल की कमी कर देगा और बहुत नुकसान देगा ,
यदि ऐसे में चंद्रमा की महादशा भी शुरू हो जाये तो ठंडी वस्तुओ का प्रयोग एक दम बंद कर दे ,और फ्रिज की
रखी हुई चीज़े जिसमे केला आता है ,चावल आता है ,दही आता है ऐसी वस्तुओ का प्रयोग आपको एकदम
बंद कर देना चाहिए ,या वो चीज़े खाना बंद कर दीजियेगा जिसमें पिपरमिंट होता है मेंथोल होता है ,
नहीं तो आप काफी परेशानी में आते है ,खास तौर पे एकादशी को चावल छुए भी नहीं

वृष, कर्क, तुला ,धनु , मकर ,कुम्भ का चंद्रमा हो तो रात को दूध पीना सामान्यतः अच्छे परिणाम
नहीं देता रात को दूध वही लोग पिये जिनका digestive सिस्टम बहुत मजबूत हो ,
और भोजन करने के 3-3.5 घंटे बाद वो सोते हो ,अन्यथा रात का दूध पीना avoid करना चाहिये ,

सर्वोत्तम तो ये है की यदि सूर्यास्त के 1 घंटे के अन्दर आप भोजन कर लेते है तो रात को दूध पिये
तो फिर भी ठीक रहता है आपकी सेहत के लिये ,.
चंद्रमा या शुक्र ख़राब हो तो कफ अधिक होगा ,और रात का दूध आपको नुकसान ही देगा ,
यदि सप्तम में चंद्रमा हो तो और विवाह में मांसाहार और शराब का सेवन ,तो विवाह में जीवन भर
परेशानी रहेगी , कुंडली मिला ली सब कुछ कर लिया वगैरह वगैरह सब कर लिया और मान लो
विवाह घोषित कर दिया की 36 में से 30 गुण मिल गए है कोई भकूट नहीं है कोई
योनि नहीं है लेकिन परेशानिया तो है ,सप्तम अच्छा होने के बावजूद यदि परेशानिया
है यदि जिस मुहूर्त में किसी रिश्ते का जन्म हुआ है वो यदि अशुद्ध हो गया
या उस मुहूर्त में कुछ ऐसे कार्य किये गए

जैसे पुनर्वसु नक्षत्र में विवाह का मुहूर्त निकला था उस समय में विवाह किया
गया लेकिन विवाह में जम के शराब पी जा रही थी परोसी जा रही थी
कोई बाहर से पी के आ गया वो नहीं काउंट होगा लेकिन लड़के और लड़की वालो की
तरफ से शराब परोसी जा रही थी विवाह में नॉन veg भी था

तो इस रिश्ते में 101% परेशानिया होंगी ,कमजोरिया  होंगी क्यूंकि हमने
मुहूर्त के गुण के विपरीत जा के कार्य किया मुहूर्त को अशुभ किया और अशुभ
मुहूर्त में रिश्ते को जन्म दिया तो इस रिश्ते में
परेशानिया जरूर होंगी और अशुभ मुहूर्त में हमने उस रिश्ते को जन्म दिया
रिश्ता अच्छा फल नहीं देगा चाहे कुण्डली कितनी भी मजबूत क्यूँ न हो ,
ये जरूर हो सकता है की विवाद कोर्ट तक न पहुंचे लेकिन विवाद तो जरूर होगा
अशुभ चंद्रमा सातवे भाव में हो और शुक्र भी अच्छा न हो तो मांस मदिरा
का सेवन करने वाले का पूरा जीवन बेकार हो जाता है ,
यहाँ तक की उसकी पुश्तैनी जमीन जायदाद तक बिक जाएगी

यदि आपको चोट लग जाये और हलकी फुलकी चोट हो और बाद हवासी /घबराहट हो जाये तो
एक कप गरम दूध ले के उसमें एक चुटकी हल्दी डाल के पिए
(जैसे करंट लग जाये हल्का सा या ऐसा कुछ छोटा मोटा चोट  )

मंगल यदि कुपित अवस्था में है तो  बहुत खतरनाक है क्यूंकि
मंगल की अवस्था में परमानेंट रोग हो जाता है चंद्रमा की
अवस्था इतनी खतरनाक नहीं है फिर भी मैनेज हो जाती है
मंगल यदि कुपित हो जाये तो मंगल की कुपित अवस्था स्थायी नुकसान देगी
यानि कोई रोग हो जाये तो आसानी से ठीक नहीं होगा
यानि उसकी दवायिया और परहेज स्थायी रूप से चलते रहेंगे
ख़राब मंगल वाले लोगो को देर रात भोजन नहीं करना चाहिए

जिनका मंगल ख़राब है उन्हें देर रात कभी भी भोजन नहीं करना चाहिये
अगर रात की ड्यूटी भी है तो रात को 8-9 बजे एक रेसेस में जाये भोजन
करे और उसके बाद कुछ न खाये हलकी फुलकी energising कुछ चीज़
ले सकते है जैसे कुछ एनर्जी  ड्रिंक वगैरह

जिन लोगो का मंगल कुपति अवस्थ में है उन्हें धूप में नहीं घूमना
चाहिए सुबह 10 बजे से 4 बजे तक (ये एक खास उपाय है )
unfortunately बहुत से लोग जो मंगली  है उन्हें ऐसा करना पड़ता है
उन लोगो को खास ख्याल रखना चाहिये ,जो लोग मंगली है
या मंगल दोष से विशेष पीड़ित है विवाह अदि में दिक्कत आ रही है
उन लोगो को भोजन कर के 10-4 धूप  में लम्बे काम के लिये   नहीं
जाना चाहिये ,भोजन कर के धूप में निकलना टहलना ,गप्प मारना
वगैरह ऐसा करने से बचना होगा ।

जिन लोगो का मंगल कुपित है ऐसे लोगो को तेज़ मसाले तेज़ चीनी तेज़ नमक ,
ये घातक सिद्ध हो सकता है ,मंगल सीधे सीधे हड्डी या ब्लड से रिलेटेड समस्या
दे सकता है ,खास तौर से ब्लड प्रेशर और circulation की और इन चीजों का ज्यादा
प्रयोग होगा तो obviously समस्या आयेगी । डॉक्टर्स भी ये सलाह देते है न जादा नमक न
जादा चीनी और मंगल यदि आपका कुपित है तो ये बात आपको माननी पड़ेगी नहीं तो आगे जा के
परेशानी हो जाएगी । मंगल जिन लोगो का ख़राब होता है उन्हें नशे से दूर रहना चाहिए ।
सिगरेट शराब किसी भी प्रकार का नशा कुपित मंगल वाले लोगो को काफी नुकसान दे देगा ।
ये रोग का कारण बन जायेगा (नशा )।

यदि आपका मंगल कुपित है और आप सिगरेट पीते ही नहीं लेकिन ऐसी जगह पे बैठते है
जहाँ सिगरेट पी जाती है तो समझिये आपका मंगल आपको और बुरे परिणाम देगा ।

शराब पियेंगे तो बेहद नुकसान । यदि आप ऐसे स्थान पे बैठते भी है जहाँ शराब पी
जाती है या वहां रहते है तो भी आपको नुकसान होगा । आप महसूस करेंगे बहुत सारे लोग
जिनके मंगल दोष बहुत जादा होता है यदि वो बच्चा शराब नहीं भी पीता है लेकिन उस बच्चे
के घर में नियमित रूप से शराब का सेवन होता है उस बच्चे के वैवाहिक जीवन पे
बुरा असर पड़ने लगेगा । इसलिये कुपित मंगल में इन दोनों चीजों का सेवन न करे या इनसे दूर
रहे । वरना ये आपके स्वास्थ्य के लिये आपके वैवाहिक जीवन और आपकी प्रोफेशनल लाइफ
के लिये भी समस्या बन जायेगा ।

यदि आपका मंगल कुपित हो तो आप फलो का सेवन जादा करिये आप अधपकी सब्जियों का
सेवन जादा करिये यानि बहुत तली हुई या पकी हुई सब्जियों की जगह अधपकी सब्जियों का सेवन
करे मतलब हल्दी नमक इत्यादि डाले हल्का फुल्का भून के  कि वो खाने लायक हो जाये
सेवन कर ले ।

यदि कुपित मंगल वाले लोग मदिरा मांस आदि  का सेवन करते है तो संपत्ति और शरीर दोनों
की बहुत हानी होती है । बहुत मसालों का प्रयोग करते है तो भी शरीर की बहुत जादा हानी उसमें
होती है ।

जीवन मन्त्र :– कभी कभी हम लोग बहुत सारी  शारीरिक और मानसिक परेशानियों में फंस जाते है ऐसे में
ॐ जूं सः मम पालय पालय मन्त्र का जप करे कुछ लोग जो इसको बहुत लम्बे समय तक
जपते है उनको ये मन्त्र सिद्ध हो जाता है और वो दूसरो की मदद करने में भी सक्षम हो जाते है ।

बुध यदि कुपित हो तो (बुध बहुत जल्दी नाराज होते है )
और बुध यदि दशाओ में भी कही है ,महादशा में है अन्तर्दशा में है या
प्रत्यंतर में है तो कभी भी तनाव में या जल्दी बाजी में भोजन न करिये ।
भले ही भोजन छोड़ दे लेकिन तनाव या जल्दबाजी में भोजन न करियेगा ।

ये आपके कुपित बुध को मजबूत कर के धन की हानी करायेगा ।
गृहस्थी में परेशानिया देगा पेट ख़राब कर देगा ।

ऐसे लोगो (जिनका बुध ख़राब है ) को दाले बहुत कम खानी चाहिये मतलब लिमिटेड यानि
जितना कटोरी भर प्रोटीन के लिये जरूरी है बस उतना ।
बहुत जादा दाले ऐसे लोगो को नहीं खानी चाहिये । कच्ची सब्जिया न खाये ।
बहुत जादा तला पका खाने को नहीं कह रहे लेकिन कच्ची सब्जिया न खाये ।

शीशे के बर्तन में भोजन न करे और न जल पिये । देर रात का भोजन कतई नहीं करना है ।
नमकीन चीजों का सेवन भी आपको बहुत कम करना है । और देखिये बुध जितना कुपित होगा
उतना आपकी रूचि उत्पन्न करता चला जायेगा चाट पकौड़े आदि खाने में ।
तेज़ नमकीन या पैक्ड नमक वाली चीज़े खायेंगे या कभी कभी ऐसे लोग खाने की चीज़ के ऊपर नमक जरूर डालना
शुरू कर देते है । समझिये की ये बुध नुकसान पहुंचा रहा है ।
रिश्तो में दरार कर देगा । ख़राब करेगा पैरो में दर्द करेगा और बिजनेस में आपको नुकसान पहुंचा देगा ।

ऐसे लोगो को केचप सिरका अचार वगैरह का सेवन बहुत कम करना चाहिये । (छोड़ दे तो जादा अच्छा है )
कम से कम तब तक तो छोड़ ही दे जब तक उस बुध की महादशा या अंतर दशा या प्रत्यंतर दशा चल
रही हो । यदि बुध आपका कुपित हो तो जमीन के निचे निकलने वाली सब्जिया और फल बहुत कम
ले । न ही ले तो जादा अच्छा है । जितना जादा आप लेंगे उतना ही ये आपके भाग्य को
कम करता चला जाएगा ।  वाणी पर इसका बहुत बुरा प्रभाव पड़ेगा ।
फैट पर इसका बहुत बुरा प्रभाव पड़ेगा । गले पर भी बुरा प्रभाव पड़ेगा ।
बेलो पर लटकने वाली सब्जिया होती है उनका सेवन जादा करे जैसे लौकी है ,कद्दू है ,
एक ग्रह जो कुपित हो के काफी कुछ ख़राब कर सकता है वो बुध है वाणी व्यापर,
मैथमेटिकल एबिलिटी भी कमजोर कर देता है वो इन उपायों से मैनेज किया जा सकता है ।

शास्त्रों में तीर्थ जाने की सलाह दी जाती है क्यूंकि जब भी जीवन में
बड़े हादसे जीवन को अव्यवस्थित कर दे तब तीर्थ जाये ताकि जल में नाभि तक
डूब के स्नान करे क्यूंकि वहां सकारात्मक उर्जा होती है और ऐसी जगहों पे स्नान आदि करने से
उर्जा बढ़ जाती है शरीर में ।

बृहस्पति
जिस कुण्डली में बृहस्पति कुपित हो गया वहां चीज़े संभाले नहीं संभलती ।
यदि बृहस्पति कुपित है तो व्यक्ति यदि साधू की तरह भोजन करे तो सम्मान पायेगा ।
अन्यथा सम्मान नहीं पायेगा । यदि भोगी की तरह भोजन करेगा तो उसका सब कुछ चला जायेगा ।
ऐसे लोगो को जिनका बृहस्पति कुपित है केवल दोपहर के समय ही भोजन करना चाहिये ।
सुबह और शाम नहीं । गुड का सेवन चाहे थोडा सा या जादा जरूर करे । यदि डॉक्टर ने मना किया है तो अलग
बात है ।

हल्दी का सेवन ऐसे लोगो को जरूर करना चाहिये । बृहस्पति संतुलित करने के लिए हल्दी का सेवन जरूर करे ।

एक टिप जाड़ो में अंजीर जरूर खाया करिये (इस बात को बृहस्पति के साथ साथ जोड़ लीजिये अपनी जिंदगी में )
अंजीर खाने से शरीर को बल मिलता है और शरीर में गर्मी भी आती है ।

कुपित शुक्र है तो शरीर में बहुत सारे रोग होंगे ही होंगे । बहुत मुश्किल से आप बच पायेंगे
रोगों से शरीर बहुत बेजान सा लगने लगेगा । ओज, उर्जा, व चमक  न शरीर में नजर आयेगी न
चेहरे पे ,कोई attract भी नहीं होता शुक्र बहुत बुरे फल देगा कुपित हो के यदि जातक ठंडी
और मीठी चीजों का या शराब का सेवन करेगा । यदि आपका शुक्र कुपित है तो ठंडी और मीठी
चीजों का सेवन बेहद कम कर दीजिये शराब का सेवन बिलकुल मत करिये । और ये आसानी से हो
नहीं पायेगा क्यूंकि शुक्र यदि बहुत कुपित अवस्था में होगा तो ठंडी चीज़े खिला खिला के बीमार करेगा
या मीठी चीज़े खिला खिला के बीमार करेगा । शराब के सेवन की तरफ उकसायेगा आप बहाने
बनायेंगे की भई मेरी तो सोसाइटी ऐसी है मै क्या करूँ ?

सोसाइटी थोड़े आपके मुह में शराब डाल देती है । ये तो व्यक्ति होता है जो उससे प्रभावित हो कर
मुह में शराब डालता है ।
यदि शुक्र कुपित है और आप ठंडा मीठा बहुत खा रहे है शराब वगैरह पी रहे है तो कुपित शुक्र
संतान उत्पत्ति की क्षमता ख़त्म कर देगा ।

बहुत से लोग कहेंगे की हमारे तो संतान है यहाँ संतान उत्पत्ति की क्षमता की बात हो रही है ।
जिन लोगो का शुक्र बहुत अच्छा होता है उनके द्वारा उत्पन्न संतान बहुत मजबूत होती है ।

जैसे जैसे संतान उत्पत्ति की क्षमता कम होती है वैसे वैसे उत्पन्न होने वाली संतान कमजोर
होती जाती है । चाहे मन से हो या तन से हो । जिनका शुक्र कमजोर है उन्हें तनाव या जल्दी बाजी में
भोजन नहीं करना चाहिये । ये बहुत नुकसान देता है होर्मोनल disturbance देता है ।

बहुत जादा मीठा या ठंडा आप लेंगे तो कोई असाध्य रोग भी शुक्र आपको दे देगा ।
और समस्या ऐसे में बहुत जादा हो जाती है । ऐसे लोगो को जौ का सेवन जरूर करना चाहिये ।
और ईश्वर न करे बीमार हो तो गोमूत्र का सेवन जरूर करे ।

शुक्र यदि पहले छठे सातवे ,बारहवे भावों में है तो उत्तम शुक्र राजा बना देगा और नहीं तो
यदि ये लत लगा दी आपमे शुक्र ने तो मतलब अब दर दर तक भटकना पड़ सकता है ।
यदि शुक्र कुपित हो जाये तो ये चीज़े खाना छोड़ दीजियेगा immediately ।

ग्रह यदि प्रसन्न हो जाये तो राजा और नाखुश हो जाये तो रंक बना देंगे ।

प्रथम भाव में उत्तम शनि राजा के समान बना देगा । लेकिन ऐसा व्यक्ति यदि
नशा करे तो उसकी जिंदगी बर्बाद हो जायेगी रंक जैसी जिंदगी हो जायेगी ।
कोई असाध्य रोग उसे पकड़ लेगा । ये ज़बरदस्त सही सिद्धांत है ।
छठे भाव में शनि हो तो नशा व मांस नहीं ले वरना घर बार द्वार स्वास्थ्य  में घोर कष्ट होगा ।
घर में भी परेशानी बाहर भी परेशानी ,स्वास्थ्य में भी परेशानी ।
नवाँ और दसवा शनि चाहे कितना भी शुभ क्यूँ न हो तामसिक भोजन से
बेहद  नुकसान करता है ।
शनि एक ऐसे ग्रह है जिनमें +विटी बहुत उच्च कोटि की है लेकिन ये हमेशा आपके सामने tests
ले के आते रहते है । यदि आप दयावान है अध्यात्मिक है धर्म को मानते है चाहे किसी भी धर्म को मानते हो
उस धर्म के नियमो को अपनी जिंदगी में उतारते है जो ज्यादातर लोग नहीं कर रहे और गरीबो की
मजदूरों की आप मदद करते है । जिन लोगो के शरीर के अंगो में दिक्कते है उनकी यदि आप मदद
करते है तो ये शनि कितना भी ख़राब क्यूँ न हो नीच का भी क्यूँ न हो
नीच का हो के 6,8वे ,12वे भाव में ही क्यूँ न हो इसका नीच भंग ही हो रहा हो ,
नवमांश में भी परम  नीच का क्यूँ न हो रहा हो बावजूद उसके यह आपको नुकसान नहीं देगा
और इसकी दशा में कुछ न कुछ सेटलमेंट बड़ा जरूर होगा । और वही शनि यदि आपका उच्च का
भी है नवमांश में भी उच्च का है लेकिन आप स्वार्थी है जरा जरा सी बात पे दूसरो की निंदा
करते है धार्मिक कार्यो से दूर हो जाते है अपने जीवन साथी की उन बातो में आते है जो बाते
सही नहीं है शास्त्रोक्त नहीं है ,या उन मित्रो की बातो में आते है जो आपको गलत राह पे
डाल देते है और आप उस राह पे चल देते है तो यही शनि आपकी जिंदगी को हमेशा हिला
के रख देगा स्थायित्व की आपके अन्दर बेहद कमी कर देगा ।

राहू की दशा में मछली या मछली से सम्बंधित कोई भी वास्तु खायी तो महा संकट आता है ।
लड़ाई झगडे मुक़दमे ये सब बढ़ जाते है ।राई खटाई मिठाई ये तीनो चीज़े शनि और राहू
को बहुत ख़राब करती है खास तौर पे यदि आपका राहू बहुत ख़राब हो तो राई खटाई मिठाई इन
तीनो चीजों से बहुत दूर रहे । इनका कम सेवन करे (कभी कभार खा लेने में  कोई बात नहीं कम सेवन करे )

केतु यदि आपका ख़राब चल रहा है केतु की दशा से आप गुजर रहे है तो उड़द और बीजवाले फल
या बेल पर लगने वाले फल केतु को कुपित करते है इन चीजों से बचना होगा ,यदि आप बच गये तो
केतु आपको बहुत फायदा देगा । सामान्य फल यदि आप खाते है केतु की दशाओ  में यदि केतु कुपित है
तो सामान्यतः कोई दिक्कत नहीं है । जमीन के निचे उगने वाली सब्जियों को यदि आप खाते है तो
आपको बहुत अच्छे परिणाम मिलें मिलेंगे । यदि आप बेहद सादा भोजन करते है और अपने भोजन का
कुछ हिस्सा कुत्ते के लिये निकाल के रखते है तो केतु कभी भी आपको बुरे परिणाम नहीं देगा ।

यदि आप अपने तन मन धन का कुछ हिस्सा समाज के लिए देते है तो केतु आपको बेहद फायदा करेगा
यदि आप अध्यात्मिक कार्य करते है तो केतु आपको बहुत लाभ देता है । आप पढाई लिखायी यदि करते है
तो बृहस्पति और केतु से  आपको बहुत उच्च कोटि के परिणाम मिलते है ।

कुपित ग्रह वैसे तो नुकसान ही करेगा लेकिन यदि कुपित ग्रह की चीजों को हम अपने व्यवहार से
भोजन से बाहर  ले आते है तो वो फिर उतना नुकसान नहीं करेगा ।

जाड़ो में अगर बहुत गरिष्ठ  भोजन करे तो उसके बाद  बहुत हलकी सी
बिना दूध की चाय अथवा कॉफ़ी जरूर ले लिया करे

किसी के प्रश्न का उत्तर
बीमार पड़ा बेटे का फ्रैक्चर हो गया खुद का भी  6 महीने से ऑफिस नहीं जा प् रहे है
dob 15 Sep 1979 ,सुबह के 6 बजे ,वाराणसी
उपाय : ये जो परेशानिया आ रही है ये आसानी से नहीं जायेंगी और ये कोई बड़ा नुकसान न कर दे
इसके लिए घर के सब लोग एक साथ बैठ कर  सुबह सुबह  21 बार जोर से  महामृत्युंजय मन्त्र बोले
आपके यहाँ सरसों के तेल का प्रयोग मत करे और यदि करना ही पड़ जाये तो शनिवार को मत करियेगा ।
चार  पीली पोटलिया बना ले और उसमें रत्ती के दाने डाल के और घर के अलग अलग कोनो में ऐसी जगह
लटका दीजिये जहाँ किसी की नजर न पड़े । आपके घर में कुछ घुना हुआ अनाज पड़ा हुआ है
ऐसा अनाज जो यूज़ में नहीं आ रहा है या जिसमे घुन लग गया है और साथ ही साथ आपके घर में मकड़ी के
जाले या मकड़िया जगह किये बैठी है उनको साफ करना होगा । और घर में एक सूरज मुखी और 5 तुलसी जी के पौधे
ला के रखिये । साथ ही साथ घर के सभी लोग हर शनिवार को साथ जा के पीपल के वृक्ष के नीचे चौमुखा
दीपक अवश्य जला के रखे । ये उपाय करने शुरू करिए प्रभु ने चाहा तो 2-2.5 महीने के अन्दर ही आपको अपने घर
के अन्दर परिवर्तन दिखाई देना शुरू हो जायेगा ।
ये उपाय करीब 1.25 वर्ष (सवा वर्ष ) तक करने है ।

1 Dec 2012 मंगल दोष और होने वाली परेशानिया astro अंकल लाइव

ये भ्रम  लोगो को की मंगली होने का मतलब मंगल दोष होता है
मंगल दोष 28 वे वर्ष में अपने आप समाप्त हो जाता है और बिना कुंडली मिलाये शादी करा देनी चाहिए ये गलत धारणा है
मंगल दोष वाले माता पिता की संतान का 5 वर्ष की आयु तक बेहद खास  ध्यान रखने की जरूरत होती
है क्यूंकि उसका immune सिस्टम काफी कमजोर होगा इस बात की बहुत संभावना होती है
मंगल दोष वाले लोग विधुर /विधवा हो जायेंगे ये एक मिथ्या धारणा है
मंगली होने का ये मतलब नहीं है की मंगल दोष होगा
मंगल दोष के कारण लोगो के प्रेम सम्बन्ध टूट जाते है और ये दुःख दे के टूटते है
पिता व भाई की ख़ुशी में कमी होती है
यदि बृहस्पति मजबूत हुआ तो मंगल दोष वाले love मैरिज के बाद भी सम्बन्ध टूट जाने वाली situation आ सकती है
मंगल दोष जब बहुत जादा प्रभावित करता है तो लोग शादी के लिए आपको approach करेंगे लेकिन जैसे ही आप
कही बात करोगे तो वो बात टूट जाएगी आपको कोई response नहीं देगा लोग आपके फ़ोन का उत्तर तक
नहीं देंगे ,रिश्ते नहीं आएंगे आएंगे भी तो टूट जायेंगे
यदि रिश्ते आये भी तो आपकी तरफ से कोशिश करने से बात नहीं बनेगी

किसी ख़राब पार्टनर के साथ जीवन जीने से अच्छा है की अकेले ही रहा  जाये
ज्योतिष के according 70% लोग मंगल दोष से प्रभावित या पीड़ित मिलेंगे
बिना सोचे समझे या जाने ज्योतिष के फंडे न लगाये सिर्फ लैपटॉप ले के सॉफ्टवेयर
से कुंडली बना लेने से राशी भाव और गृह देख लेने मात्र से कोई ज्योतिषी नहीं हो जाता
उसके लिये गहरे ज्ञान की आवश्यकता भी होती है

पति पत्नी में मंगल दोष हो तो वो एक दूसरे की इज्जत नहीं करेंगे
मंगल की छाया या आंशिक मंगल कुछ लोग बोलते है ऐसा नहीं होता

मंगल दोष से प्रभावित लोगो को लम्बे समय तक (या सही शब्दों में जीवन पर्यंत उपाय )
करने चाहिए
खून में heamoglobin कम होने पे हरी मिर्च खाए ये आपकी मदद करती है
कुंडली में सिर्फ मंगल की विशेष positions (1,2,4,7,8) पे होने के कारण ही मंगल दोष नहीं लगता
मंगली होना और मंगल दोष होना दो अलग अलग चीज़े है
यदि किसी की कुंडली में मंगल दोष है तो प्रेम संबंधो में सावधान रहने की जरूरत है
अधिकतर ऐसे सम्बन्ध चरित्र पे दाग लग के टूट जाते है
misconception जो मंगली/मंगल दोष से प्रभावित होते है उनका विवाह नहीं होता

मंगल दोष वाले माता पिता की संतान को कष्ट होता है (इससे रिकवर किया जा सकता है )
मंगल शारीरिक शक्ति को denote करता है यदि कमजोर होगा तो शारीरिक उर्जा कम होगी
ऐसे लोगो की संतान बीमार बहुत जल्दी जल्दी होगी ,यदि आपको मंगल दोष हो तो
ऐसे  माता पिता अपने घर का माहौल शांत रखे
misconcept मंगल दोष वालो का मंगल दोष जीवन के 28वे वर्ष में ख़त्म हो जाता है
ये बात सही नहीं है

जीवन मन्त्र जो लोग अपने इष्ट की साधना पूजा अच्छे समय में भी करते रहते है नियमित रूप से
वो लोग अपने जीवन में आने वाले कठिन समय से पार हो जाते है उनके सामने रास्ता बन जाता है उस
कठिन समय में भी जो व्यक्ति अपने इष्ट में विश्वास नहीं रखता इष्ट की साधना नहीं करता उस व्यक्ति के
रास्ते बंद हो जाते है और बुरा वक्त उसे हरा देता है

परंपरा हनुमान जी की एक विशेष साधना करी जाती है ये मूलतः धन की रक्षा के लिये करी जाती है जीवन
में कभी भी किसी प्रकार की दिक्कत आती है या कभी भी आपको रक्षा की आवश्यकता हो
तो आप इस उपाय को कर सकते है धन की रक्षा के लिए हनुमान जी की विशेष साधना ये है की पूर्णमासी को
मौली से नारियल बांध कर उन्हें अर्पित करे और फिर वही से हनुमान जी के चरणों का तिलक ले के आइये और
फिर उसे अपनी तिजोरी पे लगा दीजिये ये यदि आपका ईमानदारी का धन है लेकिन खतरे में पड़ गया है तो
हनुमान जी अपने आप जिम्मेदारी ले के ठीक कर देते है

मंगल दोष से प्रभावित माँ अपने बच्चे की सेहत को ले के काफी परेशान (possesive ) रहती है
माँ या पिता दोनों अपने बच्चे को ले के काफी possesive होते है

मंगल दोष जिन लोगो की कुंडली में हो वो शादी होने के बाद भी अलग अलग  कुम्भ विवाह जरूर करा ले
मंगल दोष से प्रभावित पिता अपने बच्चो पे क्रोध बहुत करते है
इससे उनका बच्चा चिड चिड़ा हो जाता है या उसका स्वभाव आगे चल कर विद्रोही बन जाता है
मंगल दोष के उपाय के तौर पे
माँ /साधू संत /बन्दर की सेवा करे
लाल मिर्च का सेवन न करे (मंगल दोष वाले )
लाल रंग से बहुत  परहेज करना है
कुश के आसन पे बैठ कर ॐ क्रां क्रीं क्रौं सः भौमाय नमः  या
ॐ अं अंगारकाय नमः मन्त्र का लाल चन्दन की माला से जप करे रुद्राक्ष की माला पे भी कर सकते है
मंगल दोष वालो को हमेशा सर दर्द बना रहता है
चीनी /शहद /गुड़ का दान मेहनत मजदूरी करने वाले लोगो को जरूर करे (ये भिक्षा नहीं है )
ऐसे लोगो को ताम्बे का छल्ला मंगलवार को अनामिका में धारण कर लेना चाहिए वैवाहिक
जीवन के दुःख भी शांत होंगे और सर दर्द पे भी असर पड़ेगा
थोड़े से चावलों को बहते हुए पानी में डाल दीजियेगा ज्यादा चावल की जरूरत नहीं है उपाय केवल संकेत मात्र होता है
चांदी की ठोस गोली गले में सोमवार को जरूर धारण करियेगा
मिटटी के बर्तन में 5 लाल ईंट डाल कर  किसी निर्जन स्थान में दबाये जीवन भर ये करे महीने में 1 बार ये उपाय जरूर करे (जीवन भर )
किसी पूजा स्थान आश्रम या मजदूर के घर की दिवार बनवाये
यदि शादी में compromise करना पड़े तो उसे मन से करियेगा

मंगल ब्लड या RH factor का भी स्वामी है यदि मंगल सही से मैच न हो तो ऐसे लोगो को संतान होने में
कष्ट हो जाता है ,कई लडकियो में शादी के बाद hormonal disturbance हो जाते है और उसकी वजह
से संतान होने में काफी कष्ट होता है ,

मंगल दोषह दोष से प्रभावित लोगो को अकेले नहीं रहना चाहिये
मंगल दोष वाले बच्चो के पिता (पिता की कुंडली में मंगल दोष ) उनपे बहुत गुस्सा करते है
उससे बच्चा विद्रोही हो जाता है

मंगल दोष से प्रभावित लोगो की कुंडली में गण मिलाये बिना विवाह न करे
उचित गण मिल जाने पे मंगल दोष काफी हद तक कम हो जाता है
किसी पूजा स्थान की दीवार जरूर बनवाये चाहे वो 1 इंच की ही क्यूँ न हो

जो लोग scientifically ज्योतिष पढ़ रहे है वो जरा गहराई में इस सब्जेक्ट को समझे सिर्फ
भावों राशियों से ही न रुके

किसी प्रश्न का उत्तर
आदमी कैंसर का patient था ,wife से relation अच्छा नहीं था ,
एक बेटा है 35 साल का वो माँ को छोड़ना नहीं चाहता और कहता है की कुछ भी हो
जाये चाहें नौकरी मिले या न मिले वो माँ को छोड़ के नहीं जायेगा
पत्नी को ये काफी कुछ सुना देते है लेकिन बाद में दुःख होता है ,वाइफ को schinofinia ,
father  की 100 करोड़ की प्रॉपर्टी है और उससे debar कर के गए है ,बाईपास सर्जरी भी हो चुकी है
रोज घर वालो से गालिया खाते है ,जानना चाहते है की कभी वाइफ से रिलेशन ठीक हो सकेगा या नहीं
क्या उपाय करे

जवाब पितृ दोष की गंभीर condition है एक विशेष किस्म का चंडी यग्य कराना पड़ता है
और एक लाल आसन पे बैठ के
ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै वा दुर्गे दुर्गे रक्षिणी स्वाहा
मन्त्र जप कर के एक सामान्य समिधा से रेगुलर हवन करे
ॐ अग्नि देवाय नमः मन्त्र से 1 साल तक हवन करे
चूँकि ये गंभीर पितृ दोष है  तो ये इसका विशेष उपाय है
इस परिस्थिति में पितृ दोष के सामान्य उपाय की बजाये ये उपाय करिये
Tags: Astro Uncle

नौकरी/business में दिक्कत हो तो Astro Uncle ke remedies

Astro Uncle live 25 Nov 2012 (दफ्तर का माहौल तनावपूर्ण हो तो क्या करे या नौकरी में दिक्कत हो तो कमजोर सूर्य वाले लोगो  के लिए उपाय )
दफ्तर का माहौल तनावपूर्ण हो तो क्या करे या नौकरी में दिक्कत हो तो
व्यापारिक प्रतिष्ठान से बाहर निकलते समय बायें नथुने से साँस ले और साँस छोड़े ऐसा 5 बार करे और फिर निकले
कभी कभी बात चीत करने से परिणाम निकलते है
मेष कर्क तुला मकर राशि के लोग शिव और सूर्य की उपासना जरूर करे मंगल और शनि के उपाय कर ले ये आने वाली फरवरी 2013 तक
के लिए है वैसे जादा कर ले तो अच्छा है बुरा वक्त एक महीने जादा मान के और अच्छा वक्त 1 महिना कम
मान के चलने में ही अच्छा रहता है
वृषभ सिंह तुला वृश्चिक कुम्भ राशी वाले लोग भगवन विष्णु या माँ की आराधना जरूर करे पान के पत्ते 43 दिन तक
पानी में बहा दे
कभी कभी किसी पे क्रोध आयेगा और क्रोध में किसी को कुछ कह देंगे तो उससे परेशानी हो जाएगी

मिथुन कन्या धनु मीन राशी के लोग किसी भी परेशानी में रुद्राभिषेक अवश्य करे ,पीपल के पेड़ की
जड़ में दूध अर्पित करे

किसी के प्रश्न का उत्तर
[ 21 Nov 1985 ,जन्म स्थान वाराणसी, जन्म समय  22:45 बहुत टैलेंटेड है लेकिन टैलेंट का कोई यूज़ नहीं है और अकेलेपन से बहुत परेशान  है
मिटटी के बर्तन में अग्नि प्रज्ज्वलित करे मोटी अग्नि प्रज्ज्वलित करे  सावधानी से ,
दूसरा उपाय  गुग्गुल की धुप करे सब जगह सावधानी से इस जन्म कुंडली में गुरु   नीच का हो गया और और मुख्य गृह शनि
combust हो गया है यही गड़बड़ हुआ
शांत भाव से ध्यान लगाये पवन जी बोले ध्यान से ग्रह ठीक करना चाह रहा हूँ ध्यान में बैठे और केले के जंगल में
ध्यान में जाये और वहां चलते जा रहे है चलते जा रहे है फिर देखेंगे की थोड़ी दूर पे
एक  चबूतरे पर कोई महान ओजस्वी तेजस्वी ऋषि बैठे हुए है  (गुरु बैठे हुए है  किसी को गुरु मानते हो तो उनका ध्यान करे )का ध्यान करे की
किसी महान ओजस्वी तेजस्वी ऋषि को देखे और आपको वहां जा के आप भी उनके साथ ध्यान करे और उनके पैर छू के आ जाये
सरकारी नौकरी का प्रयास करे या टीचिंग लाइन में जाये भगवान ने आपको किसी विशेष कार्य के लिए भेजा है 28वे वर्ष में आपको स्वतः ही
पता लग जायेगा   ,तीसरा उपाय अनार की जड़ नारंगी रंग के धागे में बृहस्पति वार  को पहने ]

निरोगी भवः (ये कार्य क्रम का हिस्सा है )
किसी बीमारी के प्रभाव से यदि शरीर कमजोर हो गया है तो या कमजोरी महसूस करते है तो रोज नारियल के पानी में 4 चम्मच ग्वार पाठा का रस मिला कर
पी लिया करे इससे दुःख अवसाद ,थकान दूर होगी और धीरे धीरे ऊर्जा बढ़ने लगेगी

बिज़नस या नौकरी में बहुत दिक्कत हो यदि तो ढेर सारी हरी इलायची ले और 1008 बार इस मन्त्र से सिद्ध कर ले
ॐ सत्य सत्य सत्य सत्य विजयते ॐ  पूरी उर्जा और समर्पण से इसे करे और पूरी एकाग्रता से इसे करे
फिर दफ्तर जाते समय इसे मुह में डाल के चूसे आप रूठे हुए लोगो को मना लेंगे यदि आपका किसी कार्य से मन
उचट रहा है तो भी ये उपाय आपकी मदद करेगा

व्यक्तित्व को प्रभाव शाली बनाने के लिये
यदि आप किसी को प्रभावित नहीं कर पाते है तो 1 पान उसपे तुलसी पत्र (4-5) गाय के  दूध में पीस कर ईष्ट को याद करे
उसका तिलक लगाये दफ्तर में होने वाले षड्यंत्र से मुक्ति मिलेगी ,दफ्तर में होने वाले तनाव जो आपको
झेलने पड़ते है , षड्यंत्र शिकायत नाराजगी गुटबाजी वो सब ठीक होने लगेगा ।
at least परेशान नहीं कर पायेगा

आज कल का समय ऐसा आ गया है लोग सामने वाले की नौकरी ले लेते है दुसरे के घर परिवार को
होने वाली परेशानी के बारे में नहीं सोचते

जिनका सूर्य कमजोर होगा उन्हें अपने कार्य के स्थान में प्रतिष्ठा नहीं मिलेगी चाहे वो व्यापर कर रहे हो
या स्वयं की कंपनी ही क्यूँ न चला रहे हो या नौकरी कर रहे हो ,ऐसे लोग बार बार षड्यंत्र का शिकार बनते है ,
आपका करीबी आपसे प्यार से बाते करेगा और उसका ये बाते करने का मकसद सिर्फ सिर्फ और सिर्फ
आपके विरुद्ध षड्यंत्र रचना आपके राज उगलवाना होगा वो आपके जाते ही आपकी बुराई शुरू कर
देगा आपके पीठ पीछे । ऐसा व्यक्ति आपके राज निकलवाता जायेगा और दुसरो से पीठ पीछे कहता रहेगा
नमक मिर्च लगा के या आपका स्थान वो खुद लेना चाहेगा या किसी और को दिलाना चाहेगा ।
बाकी  सब तो ठीक है नुकसान लोग बर्दाश्त कर लेते है नौकरी बदल लेते है सीट बदल देंगे वगैरह वगैरह
लेकिन ऐसे में बहुत insult महसूस होती है । उस insult से हम परेशां हो जाते है और उस insult  से
लोग अपने जीवन को कमजोर कर लेते है ।

छोटी सी गलती भी मुसीबत कर कारण बन जाती है । जरा जरा सी बातो पे विरोध होने
लगता है । अधिकारियो या सरकारी लोगो से तिरस्कार मिलने लगता है ।

सूर्य यदि कमजोर हो तो आपके व्यावसायिक जीवन में आपको बार बार दबना पड़ता है ।
कोई भी व्यक्ति आपको राज उगलवा के (करीबी बन के) साजिश का शिकार
बना देगा ।

यदि आपके भी ऐसे लक्षण हो तो समझ लीजिये आपका सूर्य कमजोर है ।
बिज़नस में सूर्य कमजोर होने से व्यक्ति साजिश का शिकार आसानी से बन जाता है ।
लोग करीबी बन के काफी मीठी बाते करेंगे लेकिन उनका purpose ही आपको फंसाना होता है ।
सूर्य कमजोर हो तो कार्य स्थल पे प्रतिष्ठा नहीं मिलती

किसी के प्रश्न का उत्तर
[ 29 /9 /1973
6 mis carriages हो चुकी है और 1-1.5 साल का बच्चा था वो 1.5 साल पहले  मर गया  ,शादी को 14 साल हो गए और बच्चे नहीं है संतान का सुख है की नहीं कृपया बता दे
शरीर कमजोर  होता जा रहा है, मुख्या गृह है बुध और माँ सरस्वती की आराधना करनी है ,ठंडी चीज़े छोड़ दे और husband को बोले की मिर्ची वाली चीज़े छोड़ दे ,
स्फटिक की माला शुक्रवार को  धारण करे ]

जिन लोगो का सूर्य कमजोर हो उनको बार बार दबना या झुकना पड़ेगा इससे ख़राब कुछ नहीं गलती न होते हुए भी
झुकना पड़ता है , इससे बचने के लिए इन लक्षणों को समझते चले

यदि 39-42 (39 से 42 वर्ष तक) या  49-52 वर्ष तक कोई पर पुरुष या पर स्त्री आपके जीवन में आये तो उससे बच के चलने की जरूरत है
उससे दूर रहिएगा । दाहिने हाँथ में अंगूठे की जड़ में कोई काला निशान या तिल उभरे तो ध्यान रखियेगा ,
दाहिने हाँथ पर सूर्य पर्वत पर कोई तिल आ जाये या काला निशान पड़ जाये तो ध्यान रखियेगा ये पिता को
कष्ट का भी द्योतक है और आँखों को भी कष्ट का द्योतक है ।

एक चीज़ और देखते रहिएगा मुह में आपके बार बार थूक आ रही हो यदि मुह में थूक आ रहा हो तो ये बहुत बड़ी परेशानी
हो  आने का संकेत है ,ये  थूक होंठो के किनारे जमा हो जाता है इकठ्ठा हो जाता है ।
बहुत careful रहने की जरूरत है ।
चन्द्र पर्वत पर यदि धब्बे उभर आते है ये भी इस बात को दिखायेगा की आपके व्यापार  में नौकरी में प्रतिष्ठा जाने का
योग बन रहा है सूर्य रेखा अथवा भाग्य रेखा पर पैरेलल रेखाए उभर आये तो तो भी ये अच्छा संकेत नहीं होता ,यह इस बात का
संकेत है की नौकरी बदलनी पड़ेगी या व्यापार बदलने का समय आ गया है ।

घर का जानवर जब बार बार बीमार पड़ने लगे समझ लीजिये प्रतिष्ठा जाने के योग बन रहे है ।
ललाट पर यदि अचानक दाग उभरने लगे तो प्रतिष्ठा को ठेस लगने के योग चल रहे है ।
यदि पिता को अचानक घोर कष्ट होने लगे तो आपके नौकरी अथवा व्यापार  में  कष्ट होने का समय आ गया है ।
पति या पत्नी रिश्तेदारों से लड़ने लगे या झगड़ने लगे तो तो भी समझिये की अब वक्त ख़राब आ गया है ।
नौकरी में problem होगी या व्यापार में दिक्कत होगी । बहन के देवर या ननद पर अचानक कष्ट टूट पड़े
तो स्वयं भी सावधान हो कर उपाय करने शुरू कर दीजियेगा ।

अचानक डर लगने लगे अचानक बहुत असुरक्षा महसूस होने लगे समझ लीजिये दिक्कत होने वाली है ।
घर में छोटी छोटी आग लगने लगे या बिजली के उपकरण जलने लगे तो समझिये की दिक्कत आने वाली है
व्यापार  में और ये  दिक्कत काफी जादा होगी पेट में अम्लता  अचानक बढ़ने लगे तो समझिये की परेशानी
आयेगी । अचानक उंगलियों के पोर चिकने होने लगे तो समझिये परेशानी आयेगी । पिता अथवा बड़े भाई
अथवा ताऊ जी की मृत्यु अचानक हो जाये तो भी समझ लीजिये उसके बाद के कई वर्ष काफी कठिनाई से
गुजरने पड़ेंगे कुछ विशेष उपाय किये बिना आराम नहीं मिलेगा ।
घर के अनाज में घुन बहुत होने लगे समझ लीजिये अब आयी दिक्कत अब आयी
अब गड़बड़ हुई अब गड़बड़ हुई । घर में दीमक बहुत बढ़ने लगे समझ लीजिये अब या तब
गड़बड़ हुई । अचानक लोगो से दूर रहने का मन करने लगे तो भी समझ लीजिये अब परेशानी आने वाली है ।
ससुराल से सम्बन्ध बिगड़ने लगे तो समझिये की अब एक के बाद एक आपको दिक्कते आनी शुरू हो जाएँगी ।
चाहे genuine तरीके से बिगड़े या किसी की भी गलती से बिगड़े । जो भी कर रहे है समझिये उसमे परेशानी
आनी शुरू होने वाली है ।
अगर बुजुर्गो से झगडा होने लगे तो दिक्कत बहुत तेजी से आयेगी ।
कई बार बुजुर्ग भी गलत बात कह जाते है । है तो सब इन्सान लेकिन अगर बुजुर्गो की गलत बात से आपका
झगडा तू तू मैं मैं में बदलने लगे तो उसे आप नोटिस मत करियेगा । झगड़ीयेगा बिलकुल नहीं ।
नहीं तो दिक्कत आप पे आयेगी ।

यदि ये सारे लक्षण आपको अपने आस पास दिखे तो समझ  लीजिये की प्रतिष्ठा बढ़नी रुकने वाली है
या प्रतिष्ठा घटने वाली है साख कम होने पे आपके market  पे बहुत बुरा असर पड़ने  वाला है ।
या फिर आपकी नौकरी में दिक्कत होगी ।

जरूरी नहीं की इनमे  से सारे उपाय आप करे इनमे से 3-4 भी उपाय आप कर ले तो ईश्वर कृपा से
आपकी उन्नति नहीं रुकेगी ।
ये काम वो लोग जरूर करे जिनकी प्रतिष्ठा दाँव पे लगी रहती है ।
सामाजिक राजनितिक पब्लिक डीलिंग वाले लोग किताब लिखने वाले लोग  जरूर कर ले

उपाय 1) आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ करे 3 बार सूर्य के सामने
2) ॐ घृणी सूर्याय नमः  का कम से कम 108 बार जप कर ले
3) गायत्री का जप कर ले ,(यदि उपाय 2 नहीं कर सकते तो ये करे ये भी सुबह करना होगा   )
4) प्रत्येक रविवार गायत्री यग्य करे
5) घर की पूर्व दिशा से रौशनी  आये इसका उपाय करे यदि  हवा भी आयेगी तो अच्छा रहेगा ।
6) घर में तुलसी का पौधा जरूर लगा दे
7) प्रत्येक रविवार गुड और चावल की खीर लोगो को खिलाये और खुद भी खाए
8) दूध व चावल का दान बिलकुल मत लीजियेगा किसी के यहाँ चाय पीना इस category में नहीं आता लेकिन
बहुत से लोगो को लोग दूध चावल का दान दे जाते है दान स्वरुप मत लीजियेगा ,उधर स्वरुप भी मत लीजियेगा ।
यदि आप दूध खरीद के ला रहे है तो उसका पैसा immideately दे दीजियेगा उधार स्वरुप भी मत लीजियेगा ।
चावल भी ला रहे है तो एक भी दिन का उधार मत कीजियेगा तुरंत पैसे दीजियेगा ।
9) उपाय के तौर पे पिता की सेवा जरूर करनी होगी
10) और दस गायो को अनाज दिया करे हफ्ते में एक दिन कर सकते है अगर रोज करना है
तो एक गाय भी चलेगी लेकिन जरूर दिया कीजिये

11) अपने मकान में पानी का पंप जरूर लगवाये , हैंडपंप लगवाने से अच्छा रहता है जो लोग
फ्लैट में रहते है वो तो हैंडपंप लगवा नहीं सकते उनके लिये दूसरे  उपाय है

उपाय आगे  है 12 से शुरू

परंपरा
शंख में जल भर कर छिड़का जाता है क्यूंकि ऐसा जल विषनाशक होता है पुराने समय में बिच्छू बहुत होते थे
घर घर पे बिच्छू के काटने पे शंख में गुनगुना पानी रख कर उस स्थान को धोया जाता था जहाँ बिच्छू काट गया है
ऐसे पानी से उस स्थान को धोने से जहाँ बिच्छू कट गया होता था  धोने से बिच्छू का जहर नहीं चढ़ता था ।

किसी के प्रश्न का उत्तर
[ पौने तीन साल का बच्चा है 12 मार्च 2010 , टाइम 16:36 ,जन्म स्थान बयाना (राजस्थान )
जब से जन्म हुआ है तब से बीमार रहता है वजन कम है और घुटने उठे हुए दिखाई देते है
जादा प्रॉब्लम नहीं है बच्चे को ब्लड infection है जो बचपन में पिता को भी था और बच्चे को कोल्ड infection भी है
पैर काफी कमजोर है इन दोनों वजहों से या तो कभी पेट में दर्द होगा उसकी वजह से बुखार आ जाता है
काले रंग के धागे में शनिवार को गोमेद पहना दे शनिवार के दिन ]

किसी के प्रश्न का उत्तर
[ 15-7-1979 , 2:15 PM चित्तौड़ जब से बिज़नस कर रहे है तब से समस्या पे समस्या आये जा रही है
जवाब  समय ख़राब चल रहा है एक डेढ़ साल तक ऐसे ही रहेगा  रोजाना शिव जी की उपासना करनी है , 3 कुत्तो को रोज भोजन दे ,
विधारा की जड़ हरे कपडे में पहने बुधवार को ,जब तक आप विधारा की जड़ नहीं पहन  पा  रहे तब तक एक मटकी ले कर
उसे किसी बहते हुए पानी में बहा दे ,जब तक आप विधारा की जड़ नहीं पहन  पा  रहे, इस काम में ग्रोथ होगी ये नहीं कह सकता लेकिन
काम बदल के जरूर लाभ होगा ]

12) कभी कभी ताम्बे का सिक्का पानी/नदी  में बहाए इससे आप व्यापार में धोखा नहीं उठाना पड़ेगा
13) यदि आपको हाल ही में धोखा हुआ है बिज़नस या नौकरी में तो ऐसे लोगो को मछली कभी नहीं खानी चाहिये बल्कि मछली
खरीद कर उसे स्वच्छ जल में प्रवाहित कर दे
14) जानवरों को जीवन दान दे इससे आपका कल्याण होता है
15) यदि नौकरी में प्रतिष्ठा के चलते कोई बड़ा संकट आ रहा है तो चूल्हे को दूध से मार कर फिर बुझाइये
16) प्रतिष्ठा से जुड़ा हुआ काम करने से पहले सौंफ और गुड जरूर खा लिया करिए ये बड़ी अचूक चीज़ है इससे बहुत फायदा होता है
17) मोटापा मत चढ़ने दीजियेगा  इससे आपको काफी नुकसान होगा
18) कानों के कच्चे कभी मत बनियेगा यदि आप कानो के कच्चे हुए तो अच्छे लोगो को खो देंगे ,human asset is the most precious asset biggest asset ,
इसलिए जब भी बुरा वक्त आये तो हम लोग अच्छे लोगो से दूर हो जाते है अपने लोगो से दूर हो जाते है

19) किसी को भी शराब और मांसाहार न खिलाये
20) कांच के टुकडो को जमीन में या गमले में जरूर दबा दे ये घर में भी दबा सकते है इससे
आपकी प्रतिष्ठा पे आया संकट दूर हो जायेगा
और यदि कोई व्यक्ति अचानक आपको नापसंद कर रहा है तो बहुत जरूरी है की वो आपको पुनः पसंद करने लगे

यदि सूर्य कमजोर है तो अच्छा चंद्रमा आपको मदद कर देगा
यदि भाग्य रेखा चन्द्र पर्वत से आती है तो उस व्यक्ति का भाग्य बहुत अच्छा होता है
या यदि भाग्य रेखा केतु के स्थान से निकल रही है तो भी भाग्य बहुत अच्छा होता है
यदि भाग्य रेखा बृहस्पति के पर्वत पे जाये तो आप कभी भी डाउन नहीं होंगे हमेशा तरक्की
करते जायेंगे ,जीवन रेखा से यदि कोई रेखा बृहस्पति की और जाती है तो भी ये बहुत अच्छा होता है ।

यदि आपका अंगूठा बहुत मजबूत है उन्नत है तो आपको व्यापार  में बहुत तरक्की मिलेगी
यदि सूर्य रेखा दो हो या कांटे की तरह ख़राब हो जाये तो ये बहुत ख़राब होता है ,ऐसे लोगो को अपने गलत decisions की
वजह से कोई बड़ा भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है जिससे आपका पैसा और प्रतिष्ठा दोनों दावं पर लग जाएँगे ।

जीवन मन्त्र यदि आपका मन अवसाद से भर रहा हो तो
अपने स्वाधिष्ठान चक्र और अनाहत चक्र पे ध्यान करे अवसाद दूर होगा और स्फूर्ति होने लगेगी
और आशा की कई किरने आपके भीतर जागने लगेंगी ।

किसी के प्रश्न
[ 26 Feb 1962 शादी के बाद से ही पत्नी की तबियत ख़राब है ,आर्थिक स्थिति हमेशा ख़राब रही है , जो नौकरी कर रहा था 2007 में चली गयी
कोर्ट केस किया है थोडा लड़ के ही मिलेगी स्टेबल हो गया लेकिन केस करना पड़ा
जवाब : मिल जाएगी वापस नौकरी रोजाना सूर्य की आराधना करनी शुरू कर दीजिये ,शमी के पेड़ की जड़ को काले धागे में
शनिवार को पहना दे , 1 साल तक श्री सूक्त का पाठ करे ,
पत्नी ॐ रुद्राय नमः का जप करते हुए शिवलिंग पे 1 चम्मच  शहद से रुद्राभिषेक करे (ॐ रुद्राय नमः ) रोज करे भगवान ने चाहा
तो उनकी तबियत में काफी सुधर आयेगा ।
दोनों लोग चांदी की चेन सोमवार को सुबह गले में अवश्य धारण करे ]

हाँथ पे जीवन रेखा भाग्य रेखा को काटे  या कोई लकीर वहां उसे कटे तो ये काफी कष्ट वाली स्थिति होती है

जीवन में चांदी का दान न ले कभी ( ये समझ नहीं पाया की लोगो के लिए कहा )
बल्कि चांदी का दान जरूर करे और चांदी उपहार में भी जरूर दे
दूध का दान ऐसे लोगो को जरूर करना चाहिए यदि ये symptoms जो हाँथो पे बताये
नजर आ जाये तो बंद आँखों से दान करे मतलब count मत करे की कितना दान दिया
(आंख न बंद करे दान देते समय ) सिर्फ ये नहीं गिनना है की कितना दान दिया

नारियल खाने से चंद्रमा के  अद्भुत पॉवर आती  है और आपका चंद्रमा आपका भला करना शुरू कर देता है।

सफ़ेद कपडे ऐसे लोगो को पहनने चाहिए
अनुलोम विलोम जरूर करे घर के उत्तरी हिस्से में पौधे जरूर रखे छोटे छोटे
घर में चांदी या पारे के शिवलिंग जरूर स्थापति करे खास तौर पे वो लोग जिनका वैभव नहीं आ रहा
unemployement में बहुत लम्बा गैप हो गया है जॉब न लग पा रही हो और बहुत मेहनत  करने के उपरांत
भी पैसा न कमा पा  रहे हो
और नौकरी जाने के बाद दूसरी नौकरी लगने में बहुत समय लग जाता है है ऐसे लोगो को खास तौर पे
घर में उत्तर में श्री कृष्ण की स्थापना करनी चाहिए
और अपने हांथो  से श्री कृष्ण जी को स्फटिक पहना दीजिये शुक्रवार को ये कार्य करियेगा

घर में मोर पंख जरूर लगाना चाहिए ऐसे लोगो को जिनकी नौकरी में जल्दी जल्दी न  हुए भी बदलाव आ रहा है
घर में जंगली कबूतरों को मत रहने दीजिये उससे दिक्कत होती है

यदि आपका बार बार आपकी वर्क प्लेस पर अपमान हो तो बोलना कम कर दे शास्त्र पढ़े और लोगो को किताबे बाँटिये
माँ को सुख दे और गले में एक सुपारी चांदी में मढवा कर पहन ले
माँ या बुआ से चांदी  की चेन उपहार में ले लीजियेगा उसी चेन में इसका
pendant धारण कर लीजियेगा लाभ होगा
पिता को दूध जरूर पिलाया करियेगा मीठा दे या फ़ीका ये उनकी इच्छा है लेकिन यदि आप  उनको दूध या दूध से बनी हुई कोई चीज़ देते है
तो उससे जरूर आपको लाभ होगा मन आपका मजबूत होता हाई इज्ज़त प्रतिष्ठा आपको प्राप्त होती है
पूर्णिमा की रात चंद्रमा के सामने  को माँ के साथ बैठ के रात भर ॐ नमः शिवाय का जप करे या ॐ श्रीं सों सोमाय नमः का जप करे
यदि कुछ ऐसे पुराने customers या लोग थे जो आपसे टूट गये है और उन लोगो को आप जोड़ना चाहते है तो ये काम
पूर्णिमा को करे
जाड़े में केसर या शिलाजित का सेवन करे
घर में बड़ा घंटा न रखे ,ऐसे लोगो को घर में शंखनाद जरूर करना चाहिये ,आपका सूर्य चाहे जितना भी कमजोर हो
जिस घर में शंख नाद होता है वहां सूर्य और चन्द्र अपने आप सही परिणाम देते है ,घर की कलह समाप्त होती है रोग
समाप्त होते  है,आपको नौकरी में बिज़नस में मन जादा लगा के काम कर पाते है

फिरोजा पहने क्या होता है कभी कभी मान लीजिये एक उदाहरण देता हूँ
एक व्यक्ति है उनके शुक्र की दशा आ रही थी अष्टमेश शुक्र थे और उच्च के थे
तो सबके द्वारा ये सोचा गया की ये शुक्र बहुत बढ़िया आने वाले है और अब तो
बल्ले बल्ले हो जाएगी लेकिन ऐसे में ये caution जरूर लेना चाहिए की जब तक दशा
proper तरीके से शुरू न हो जाये और शुरू हो कर फल देने न शुरू कर दे

तब तक आप investment नहीं करे जब तक शुक्र का proper फल न आये तब तक
बड़ा नुकसान हो चुका था ऐसा कभी यदि आपके साथ हो रहा हो तो आपको 7-8 रत्ती का फिरोजा
चांदी में मढ़वाकर अपने गले में पहन ले अथवा अपनी फिंगर में पहन ले (कौन सी ऊँगली ये मै समझ नहीं पाया )

जिन भी लोगो का वक्त ख़राब चल रहा है अपनी मेज पर सफ़ेद फूल जरूर रख ले
ऑफिस में लड़ाई झगडा चल रहा है या बिज़नस में customers टूट रहे है तो अपनी table
पर सफ़ेद फूल जरूर रखे

जिन लोगो का सूर्य या चन्द्र बहुत  कमजोर होता है वो यदि धैर्य न खोये तो वो परेशानिया
काफी हद तक कम हो जाती है

गले में चांदी  की चेन पहने
सोमवार को दूध का दान
महीने में किसी एक शनिवार को लेड पानी में जरूर बहाए (ये सिर्फ पेन्सिल की टिप बराबर भी हो तो चलेगी )
लेकिन लेड के लिए ध्यान रखे उपाय के तौर पर नदी को प्रदूषित न करे लेड हानिकारक होती है बहुत से लोगो को
परेशान भी कर सकती है उपाय केवल संकेत होता है प्रतीक मात्र
पानी में लेड नहीं बहानी चाहिए खास तौर पे जब आपको आपके अपने धोखा देने लगे तब ये उपाय जरूर कर दे ।
यदि आपके कर्मचारी आपको धोखा देने लगे या आपके सेवक आपको धोखा देने लगे तो ये कार्य जरूर कर दे
लेड पानी में बहाने वाला ।

आने वाले 4-6 महीनो में यदि प्रोफेशन में बहुत जादा लोस हो (Nov 2012-मार्च  2013) तो बकरी का दान जरूर कर दे
छोटी बड़ी रंग कोई भी हो सकता है बस दान कर दीजियेगा ।
और सूर्य चन्द्र यदि दोनों ख़राब है और जो लक्षण बताये है ऊपर यदि इन्मी 10-20 भी आपसे मिल रहे है तो
तो या तो कुत्ता पाले या कुत्ते/कुत्तो  की सेवा करनी शुरू कर दे ।

ख़राब मित्रो से एक दम साथ छोड़ दीजियेगा अन्यथा ये आपको ले डूबेंगे ।
सूर्य यदि बहुत ख़राब है और यदि आपको बार बार धमकिय मिलती है की आज आपकी नौकरी ले लेंगे
ये है वो है इस तरह से या कोई बार बार आपको धमकी देता है बिज़नस में तो मूलियो का दान करना
शुरू कर दीजियेगा । और ये लम्बे समय तक करियेगा जब तक ये समस्या ख़त्म न हो जाये ।

परायी स्त्री की बातो में नहीं आना चाहिए जिन लोगो का सूर्य खराब हो उनको ।
परायी स्त्रियों के कारण बहुत नुकसान उठाते है ।
जिन लोगो की सीढियों के निचे खाना पकता है है उन घरो के लोगो के नौकरी में व्यापर में दिक्कते बनी रहती है ।
अभद्र भाषा का प्रयोग कभी नहीं करे वो लोग जिनका सूर्य अथवा चन्द्र ख़राब है वरना इन लोगो को बहुत प्रॉब्लम
होती है ।

यदि आपकी नौकरी या बिज़नस में इन आने वाले 3-4 महीनो में बहुत दिक्कत होने लगे (Nov 2012- मार्च 2013) तो
अपनी ससुराल से बना के रखे और एक बार पलंग या गद्दा चादर आदि उपहार में ले लीजियेगा ।

यदि (nov dec  2012) में आपकी नौकरी बिज़नस  वगैरह में दिक्कते ए तो महा मृत्युंजय का पाठ जरूर कर ले
कोई भी परेशानी यदि आती है और उसमी यदि आप शिव का जप करते है तो उसमे काफी चीज़े अपने आप ठीक
होने लगती है और ऐसे लोगो को काले व नील वस्त्रो से बचना होगा । जिनको ( Nov -Dec 2012)  में जॉब अथवा
नौकरी में दिक्कते आने लगे ।

किसी के प्रश्न का उत्तर
[ बेटी के लिए प्रश्न Dob 24-Dec 1994 , दोपहर 12:25, प्लेस:Delhi बच्ची की तबियत ठीक नहीं रहती
जवाब : बच्ची को पितृ दोष है ,
एक 5-6 रत्ती का लहसुनिया बच्ची को चांदी  में काले धागे में पहना दे
हर अमावस्या को बच्ची के हाँथ से गाय कुत्ते कौवे को रोटी दिलाये
शुक्रवार को चींटियो को मीठा  आंटा डलवाये और यदि चींटिया न मिले तो गाय को डलवा दे ]

किसी के प्रश्न का उत्तर
[ भाइयो की शादी नहीं हो पा रही
1-Dec -1967 समय सुबह 5:45, baltoli दक्षिण गुजरात
जवाब : पितृ दोष है जब ये स्नान करेंगे तो उसमी गो मूत्र डाल के स्नान करे कुछ बूंदे
गाय के उपले पर घी रख के उससे अग्नि प्रज्ज्वलित किया करे
तिकोना मूंगा 5-6 रत्ती का वो दाहिनी अनामिका में   पहना दीजियेगा लेकिन इसे चांदी में
पहनाना है , मंगलवार की सुबह सुबह सूर्योदय से 1 घंटे के अन्दर अन्दर
]

किसी के प्रश्न का उत्तर
[25-61978, जलगावं महाराष्ट्र,दोपहर 3:25 काफी नर्वस पूरा लाइफ परेशानी में सब काम बनते बनते बिगड़ जाता है ,
जवाब : स्त्री ऋण दोष है पूर्णमासी को जरा सा चांदी का टुकड़ा बहते हुए पानी में बहा दे , 8 वर्ष से छोटी बच्चियों की
आप शुक्रवार को सेवा किया करे और स्फटिक की माला अपने गले में शुक्रवार को पहन ले फिर आपको लाभ मिलेगा
]

Tag: Astro Uncle

when there is problem in job,or business or profession, malefic Sura/Sun in horoscope,

what should one do to get rid of them, remdies by Astro Uncle pawan Sinha in his popular TV Show AstroUncle live.

पेट की खराबी के योग और उनके उपाय astro अंकल सीरीज

24 Nov 2012 astro uncle live 1.5 hours episode pet  ki kharabi se hone wale
पेट की बिमारिओ से बचने के उपाय

पेट की समस्याओ के चार प्रमुख कारण  है जन्म, मन, अन्न और दिन चर्या ,
जन्म यानि चंद्रमा (date of birth ) आज कल जो बच्चे हो रहे है वो पेट की समस्याए ले कर हो रहे है
कुंडली का पांचवा नवा भाव काफी कुछ बता सकता है पिछले जन्म के बारे में भी पेट के चलते
दिल की और दिमाग की बीमारी हो जाती है जो लोग भोजन के तुरंत बाद संतान
उत्पन्न करने की कोशिश करते है तो ख़राब स्थिति होती है संतान की इससे ईर्ष्या जलन ,या पिता
चोरी से शराब पीते हो फेफड़ो और पेट के रोग ,भविष्य के प्रति बहुत चिंतित रहते हो …..
पांचवा और नवा भाव पूर्व जन्म की पूरी जानकारी दे देता है ,
चंद्रमा मन का कारक है ,चंद्रमा के भिन्न भिन्न प्रभावों में पेट के अलग अलग रोग सामने आते है ,
एसिडिटी भी बहुत जादा और दवाइया भी बहुत जादा लेनी पड़  सकती है ,मन के disturbance की वजह से
पेट बहुत जादा disturb हो जायेगा , संतान प्रक्रिया के वक्त पिता को एसिडिटी न हो मन में ईर्ष्या या
जलन न हो पिता का बृहस्पति या मंगल ख़राब स्थिति में हो तो बच्चे को पेट के रोग होने की संभावना रहती है

एक व्यक्ति पवन जी से मिला 55 साल की उम्र में रोग ब्लड प्रेशर ,appendix operated ,यूरिन infection ,
बुखार ,steroids , डॉक्टर्स की एडवाइस के बावजूद मानसिक आराम नहीं किया ,जिसका नतीजा ये सब हो गया
बृहस्पत या सूर्य या मंगल ख़राब हो तो आप को भी ये समस्याए हो सकती है बहुत से लोग जिनके चन्द्र पर्वत से
कोई रेखा निकल कर शनि पर्वत की ओर  जाती है या बीच में रुक जाये तो पेट के लगभग नाश का पूरा चांस
रहता है पेट के रोग से परेशां होने का पूरा चांस रहता है ,चन्द्र पर्वत से बारीक़ रेखा मस्तक पर रुके तो भी ये होगा ,

चंद्रमा जब राहू शनि से प्रभावित हो तो पेट की समस्याए बहुत जादा होती है ,बहुत जादा असुरक्षा की भावना से पेट के रोग
हो जाते है ।

[ किसी के प्रश्न का उत्तर हाँथ देख कर सवाल का उत्तर दिया हाँथ की स्कैन इमेज भेजी थी
अपने गले का ध्यान रखे ,बहुत चिंता न , प्रभु शरण में रहे ताम्बे का कड़ा पहने बाये हाथ में सवाल
पूंछने वाली स्त्री थी इसलिए बाये हाथ को बोला (मेरा अनुमान है ) ,पुराना गुड सुबह सुबह चूस लिया करे
किसी डॉक्टर  से सलाह जरूर ले ले क्यूंकि ये हमारे लिए उपाय है लेकिन कोई विशेष मेडिकल  न हो तो ये
उपाय आपको फायदा  ,सुबह दही  में काली तुलसी मिला कर दिन में सेवन करे शिवलिंग पे अभिषेक करते हुए
ॐ रुद्राय नमः का जप करे ]

रोजाना गायत्री को 11 आहुतियाँ दे 1-1.5 साल तक जितना सूर्य को मजबूत करेंगे उतना बेहतर होगा
(पेट की बीमारी से मुक्ति मिलने की संभावना जादा )

धीरे धीरे चिंता क्रोध का कारण बनती है इससे anxiety बढती है ,इससे पेट ख़राब हो जाता है ,
चन्द्र शनि राहू  का प्रभाव वात नाड़ी को कुपित कर देगा इससे गैस बनेगी और गैस से पेट ख़राब होगा ,
चाहे दवा कर ले हरद चूस ले या कुछ कर ले यदि आप अपने मन को शांत नहीं करेंगे तो
पेट ठीक नहीं होगा

[ किसी के प्रश्न का उत्तर प्रोग्राम के बीच में लोग फ़ोन करते है बच्ची दूध की चाय न पिए ,मिश्री और सौंफ दूध में रख के
चूस ले ]

परंपरा (ये शो का एक सेक्शन है )
हथेली से आरती लेने से हथेली की एनर्जी पॉइंट्स activate  हो जाते है इससे वात चक्र बैलेंस हो जाता है

[ किसी के प्रश्न का उत्तर रोज गणपति को दूब  अर्पित करे मिटटी के बर्तन में लाल मसूर की दाल भिगो दे उसे गाय को खिला दे भिगो के ]

[ किसी के प्रश्न का उत्तर जीवन का लक्ष्य होना चाहिए और उस लक्ष्य को पाने की ललक जिनकी होती है उन्ही का भाग्य बदलता है ]
[ किसी के प्रश्न का उत्तर लड़की पढाई में कमजोर है उपाय भोजन हल्का ले दिन में हलके दूध में  बादाम का तेल डाल  के दे ]
कमजोर बृहस्पति आलस्य की वजह होता है ,
चंद्रमा सौभाग्य देता है आप काफी लोगो की मदद कर देंगे लेकिन यदि चंद्रमा ख़राब हो या शनि पर्वत पे कुछ काला गड्ढा हो

ऐसे लोगो को बहुत शांत और सुव्यवस्थित रहना पड़ेगा ऐसे लोगो का पेट ख़राब रहता है ,ऐसे लोग पेट से जादा मन की शांति का
उपाय करे यदि चंद्रमा मंगल से ख़राब होगा तो उस व्यक्ति का पेट ठीक नहीं रहेगा
यदि uncontrolled anger या बेचैनी है तो उस व्यक्ति का पेट ख़राब होगा
उपरी मंगल से रेखा यदि निचे की ओर आ रही है तो भी ये होगा ।

जीवन मन्त्र जब भी कोई  दुःख  हो तो उस व्यक्ति को उसके सुख के दिनों की याद दिलानी चाहिए और सुख हो तो उसके जीवन के दुःख के
दिनों की याद दिलानी चाहिए

[ किसी के प्रश्न का उत्तर बच्चा पेट से बहुत परेशान  है कोई मेडिकल reason समझ नहीं आ रहा ,बच्चे का इष्ट देव बता दे
उपाय :- एक 5-6 रत्ती का गोमेद चांदी  में बच्चे को पहना दे माँ काली इनकी आराध्य है एक नारियल माँ काली का ध्यान करते हुए
उनके चरणों में ये चढ़ा दिया करे या यदि ये स्वयं न कर सके तो माँ काली का ध्यान करते हुए वो नारियल किसी को दे दिया करे और
वो व्यक्ति माँ को वो नारियल अर्पित कर दे ,धनिया डॉक्टर टेप से हथेली पे’बांध दिया करे और नाभि पे और फिर बच्चे को सुला दिया करे
हनुमान बाहुक का पाठ बच्चा करे और एक रुद्राभिषेक शीघ्रता से करा दे (ये बच्चे का कुछ सीरियस केस था ) ]

चंद्रमा पे शनि राहू का प्रभाव गैस बनाता है ,इसे पहचानने का तरीका
शनि पर्वत दबा हुआ होता है ,जीवन रेखा कुछ बारीक़ सी  शनि पर्वत की ओर जाती है

जब भी आपका thought process बहुत जादा डिस्टर्ब हो जाये तो पेट गड़बड़ करेगा ऐसे में परहेज करे ,परहेज में दिन चर्या और भोजन भी
शामिल है साथ ही मन पे भी नियंत्रण रखे ,चंद्रमा यदि मंगल से प्रभावित हो तो व्यक्ति क्रोध बहुत करेगा और इसी क्रोध के वजह से
कोलाइटिस या आंत की बीमारिया  हो जाएँगी इसका उपाय ये है की चंद्रमा मजबूत करे मंगल को कमजोर करे
[पेट की खराबी से जोड़ो में दर्द होता है । चंद्रमा की कमजोरी से endocrine glands में प्रॉब्लम होती है ,
चंद्रमा के डिस्टर्बेंस से …….
पेट में आंतो में सूजन हो सकती है
मजबूत चंद्रमा से पेट की बिमारिय ठीक हो जाती है (सकती है )

पेट में कब्ज चंद्रमा की वजह से होता है ,गैस का दर्द परेशान करेगा ,अहंकार कब्जियत वाले लोगो में बहुत होता है ,
ध्यान के माध्यम से चिंताए ख़त्म करे ,कब्ज समाप्त करे ,आलोचना बंद करे ,दुसरो की और सबसे प्यार से मिले
पुनर्नवा पिए पुनर्वा की जड़ धारण करे

बहुत जादा लालची और possesive मत होयिएगा जिनके मन में हमेशा काम सम्बन्धी विचार रहेंगे
उनका पेट ख़राब रहने के बहुत जादा चांसेस होते है

बृहस्पति यदि चन्द्र से युति करता है तो व्यक्ति साफ सुथरा भोजन करता है
बृहस्पति यदि ख़राब हो तो पेट कभी ठीक नहीं रह सकता ऐसे लोग उपवास में भी बहुत खाते है
चाट पकोड़े खाने को दे दो तो कहने ही क्या ऐसे लोगो का (कम्जोर बृहस्पति ) वात पित्त काफी कमजोर
रहता है ……………..

पुनर्वारिष्ट या पुनर्वा का सेवन करे सफ़ेद या पीले कपडे में …………

पेट में कोलाइटिस आंत की सूजन लीवर के यही उपाय है
सुबह सुबह उठ कर ॐ  बृं बृहस्पतयै  नमः का जप करे
अनार की लकड़ी नारंगी धागे में बांध कर पहने

[किसी के प्रश्न का उत्तर नीबू की चाय पिल्याए बच्ची को ग्रीन टी दे ये पेट की खराबी का उपाय है ]

रात में तामसिक ग्रहों का बल जादा होता है इन ग्रहों को बल जादा मिलता है

[किसी के प्रश्न का उत्तर हनुमान बाहुक का पाठ करते रहे ,हर मंगलवार सुन्दरकाण्ड पढ़ते रहे घर में ,माँ को नाव की कील का छल्ला पहना दे
तुलसी ……………]

यदि तामसिक ग्रहों को बल देना हो तो रात को जगे
रात को जागने से राहू केतु शनि मंगल ये चार ग्रहों को बल मिलता है ऐसे लोगो का पेट ठीक ही नहीं रह
सकता खास तौर पे यदि बृहस्पति मंगल या राहू के पर्वत उठे हुए हो तो ऐसे लोगो के पेट ठीक नहीं रहते

धन कमाने के लिए देर रात तक जागना आवश्यक है भी आज कल के ज़माने में ऐसे लोग
संध्या दीपक जलाये दीपक जला कर ॐ का जप करे
देर रात को भोजन न करे
बीज वाले फल रात को न ले (बीज का मतलब बहुत बीज वाले फल जैसे खीरा न ले सेब ले सकते है जिनमे एक दो बीज हो वो चलेगा )
रात  में हल्का फुल्का पानी पीते रहे ,
कुछ भी कर के कैसे भी सिर्फ 5 मिनट के लिए सुबह उगते हुए सूर्य के दर्शन कर ले और सूर्य भगवान को (मानते है की जिसे देर रात तक जागना पड़े उसके लिए बहुत मुश्किल होगा )
अपना पेट दिखा दे की भगवन अब इसे आप ही संभालो
वमन करना सीख ले
ॐ का जप और गायत्री का जप करने से ऐसे लोगो को बहुत फायदा मिलेगा
पेट ख़राब रहता हो तो एक साथ बहुत सारा भोजन नहीं करना चाहिए
थोडा थोडा कर के खाते रहे
ॐ के जप से cell सिस्टम बहुत मजबूत हो जाता है
ऐसे लोग (जिन्हें रात में जागना हो ) सलाद अधिक ले भोजन में
सीधे बैठने का प्रयास करे टेढ़े मेधे बैठने वालो का पेट ख़राब रहेगा ही रहेगा (यदि रात को जागना हो तो सीधे बैठे )
कोशिश करे सूर्यास्त के पहले भोजन कर ले ,साथ में परहेज भी करे
हरड़  को घी में भून कर पीसकर मसाले में मिला ले और वो मसाला खाने में डाले

चन्द्र पर्वत यदि बहुत जादा उठ गया हो तो लडको को आगे जा कर prostrate की और लडकियों को ovaries की
प्रॉब्लम आगे जा कर पीछा नहीं छोडेगी । इस तरह की दिन चर्या का पालन करने वालो को पेट
के गंभीर रोग हो जाते है ,देर रात को जागने वाले लोग रात को दूध लेने से बचे ,
खास तौर पे वो लोग जिन्हें गांठो या घुटनों में दर्द रहता है वो रात को बीज वाले फल न खाए

सुबह उठ कर ऐसे लोगो को पानी पीना चाहिए जितनी देर भी जगे थोड़ी थोड़ी देर उठ कर टहल लिया करे और
जल भी पीते रहे शुद्ध ताम्बे के बर्तन में पानी पिया जाये और सदा इसी बर्तन में पानी पिया जाये
तो काफी ठीक रहेगा ,खास तौर पे जिन लोगो को क्रोध बहुत आता है उनको इसी प्रकार के बर्तन में
रख के पानी पीना चाहिए इस बर्तन को रात को चंद्रमा की रौशनी में रख दे और सुबह उस जल को पी  ले

जिन भी लोगो को एसिडिटी की समस्या रहती है उन्हें वमन करना सीखना चाहिए ये भी
बड़ी योग्यता से  ऐसे ही नहीं
…..Michigan state university की एक recent रिसर्च में भी ऐसा ही कहा गया है मेरी बात तो आप लोग मानोगे नहीं …..(पवन सिन्हा  )
ॐ का जप करने से गायत्री का जप करने से पेट सही रहेगा
जिन लोगो को रात में देर तक जागना हो वो लोग गायत्री का जप जरूर करे

जप उच्चारण  के साथ लय में करे तभी लाभ होगा अन्यथा अपेक्षित लाभ नहीं होगा
संध्या दीपक जला के ॐ का जप करे

जिन लोगो को  तनाव पूर्ण माहौल में भोजन करना हो वो लोग थोडा थोडा भोजन करे और हल्का भोजन करे
पेट की समस्या वाले लोग हरड का प्रयोग जरूर करे हरड़ को पीसकर घी में भून
ले उसे मसाले में डाल कर इस्तेमाल करे
(डॉक्टर से सलाह जरूर ले ले यदि कोई विशेष problem हो तो )

जिन लोगो को पेट में दर्द रहता है गैस के चलते  वो लोग
खाने में चावल या अन्य खाने में लाल इलायची का प्रयोग जरूर करे (डाल लिया करे)

यदि जीवन रेखा पर कोई island बन रहा हो तो बहुत सावधानी से रहिएगा और अमृतधारा का
प्रयोग जरूर करे अमृत धारा  आपको पेट की समस्याओ से मुक्ति दिलाता है
यदि चन्द्र पर्वत पे कोई काला धब्बा हो तो हींग का प्रयोग जरूर करे या चन्द्र पर्वत पे कटी फटी रेखाए हो तो भी
हींग का प्रयोग जरूर करे ।
हाँथ की उंगलिया छोटी है और मोटी  है तो खूब टहले और brisk walk को अपनी जिंदगी का
हिस्सा बना ले

मैदा नहीं खाना चाहिए मैदा comes into जंक फ़ूड ,जंक फ़ूड इस defined by  फ़ूड which does not have
एनी nutritious value ,मैदा पेट की आंतो से 20 साल बाद भी निकाला जाये तो कोलतार (सड़क बनाने का material )
के तारो (wires ) की तरह निकलता है :— astro अंकल

तो अपने thought process को ठीक करिए थोडा दिन चर्या को ठीक करिए थोडा सा हंसिये और खूब जल पीजिये
सब ठीक हो जायेगा

Tag: Astro Uncle

जब मन में डर या घबराहट हो रात को अँधेरे में डर लगे

23 Nov 2012 (afternoon 30 minutes program)

जब मन उदास रहने लगे या बेवजह के डर  से या वहम से आप परेशान रहे
बच्चे से बहुत बहस हो जाये
केतु + चन्द्र आदमी को इतना disturb कर देते है की आदमी का वहम बढ़ता जायेगा और वो खुद तो परेशान  होगा ही और दुसरो को
परेशान कर देगा
केतु कुपित हो तो आदमी कल्पना की दुनिया में उड़ता रहेगा सिर्फ इमेजिनेशन में रहेगा ऐसे बच्चो की पहचान
हथेली का bottom लेफ्ट कार्नर थोडा सा उठा हुआ रहेगा …..आँखों के नीचे कुछ symptom बताये जो (animiya के मरीजो जैसा भी है )
थोडा आँखों के निचे साइड पे हल्का हल्का काला पन  रहेगा
ऐसे लोग बहुत जादा अंतर्मुखी हो जाते है बच्चा दुनिया के बातो में बहुत जादा interest नहीं लेगा ,
अंतर्मुखी होना अच्छी बात है व्यक्तित्व का  निर्माण इसी से होता है लेकिन यदि ये +ve direction में
है तभी ठीक है otherwise यदि बच्चा -ve direction में अंतर्मुखी है तो ये गलत है
[सर्दियों में बच्चो को कफ हो जाती है ऐसे में बच्चे की नाभि पे थोडा सा आजवाइन  का तेल लगाये ]
बहुत जादा जब इस तरह के लक्षण बच्चे में दिखने लगे तो ऐसे बच्चे के ऊपर से एक मटके में सफ़ेद पीली काली चीज़े ले के किसी अमावस्या को
बहा दे
एक नारियल को मिटटी के बर्तन में जल भर के ले बच्चे के सिरहाने स्थापना करे उस मटके का जल बदलते रहे
केसर के पौधे की जड़ बच्चे को पहना दे
सर्प गंध की जड़ 11 बार हनुमान चालीसा से सिद्ध कर के बच्चे को पहना दे
पीली कौड़ी चांदी के pendant में  सोमवार  या शनिवार को बच्चे को पहना दे
किसी किसी बच्चे को रात से अनजाना भय लगता है रात में अँधेरे में बच्चे को डर  लगता है
ये राहू शनि के ख़राब होने का लक्षण है ऐसे बच्चे खुद महीने में एक रविवार को
गायत्री यग्य किया करे और उस यग्य में आम की लकड़ी का प्रयोग करे
2013 आने वाला साल finacially बहुत अच्छा साल नहीं है नंगे पैर न घूमे जादा ,शनिवार की शाम को राहू का दान ऐसे लकड़ी फल या उड़द का दान कर दे
——————————————————————————————————
ख़राब दोस्तों से बचने के उपाय 30 मिनट episode
जिन लोगो का चौथा पांचवा भाव अच्छा नहीं होता उन लोगो को अच्छे दोस्त नहीं मिलते
खास तौर पे यदि राहू  शनि से ग्रसित हो तो बहुत परेशानी होती हैदोस्त बहुत परेशान  करते है पार्टी वगैरह काफी मांगेंगे की चलो पार्टी दो वरना ये हो जायेगा वो हो जायेगा
बचपन तक तो ठीक है लेकिन आगे जा के दिक्कत हो जाती है वैवाहिक जीवन परेशानी से भर जाता है

ऐसे दोस्तों के कारण आप जीवन में पिछड़ने लगते है

उपाय क्या करे की दोस्ती भी न टूटे और दोस्त नुकसान न कर सके

शनिवार को जो लोग भैरो बाबा के चरणों में नारियल चढाते है उनके दोस्त उन्हें कभी धोखा
नहीं दे पाते उनके दोस्त उन्हें कभी बेवक़ूफ़ नहीं बना पाते जो शनिवार को तिल के ladduo
का दान करते है किसी गरीब को उनके दोस्त उनको धोखा नहीं दे पाते उनका धन वो वापस कर
देते है जो लोग पुनर्वा की जड़ को पीले धागे में बृहस्पतिवार को पीले धागे में धारण करते है
उनके दोस्त उनका पैसा नहीं मार पाएंगे और प्रतिष्ठा की हानि भी नहीं कर पायेंगे जो लोग धतूरे के पौधे
की जड़ को गणपति मन्त्र से सिद्ध कर के अपने पास रखते है उनके दोस्त उनको बेवक़ूफ़  नहीं
बना सकते उनके दोस्त उनको धन को लेकर उन्हें कभी परेशान नहीं करते

अचूक उपाय डरावने सपने जब आये तो शिव की आराधना करनी शुरू कर दे महा मृत्युंजय मन्त्र
जप करना शुरू कर दीजियेगा जब तक सपने आने बंद न हो जाये

दूसरी चीज़ जो ऐसे में आपको करनी है एक बार अपने शरीर पर से नारियल उतरवा ले और
उसे शिव जी के चरणों में रख दे

यदि काफी दोस्त करीबी हो या दोस्त का करीबी व्यक्ति है जिससे आप परेशान है
मना नहीं कर पा  रहे तो ऐसे में भोज पत्र आपके बहुत काम आयेगा
काली स्याही से भोज पत्र पे उस व्यक्ति का नाम लिख के बहते पानी में बहा दे इसके बाद वो
अपने आप आपका पीछा छोड़ देगा (आपको तंग करना छोड़ देगा ) यदि उसने आपका कुछ धन इत्यादि
अपने पास रखा हुआ है तो वो लौटा देगा

आत्म बल उत्पन्न करने के लिए चांदी का छल्ला अंगूठे में पहनना बहुत जरूरी होता है
और साथ ही गले में रुद्राक्ष पहने

अगर दोस्त पैसा ले के चले जाये और उनसे पैसा वापस लेना हो तो कैसे ले
घर में पीतल के 5 पुराने बर्तन ले (जिसके घर में पीतल इस्तेमाल होता हो उससे 5 बर्तन ख़रीदे
या किसी कबाड़ी से पीतल के 5 पुराने बर्तन खरीद ले )

अपने घर में उन बर्तनों को रखिये धो धा के अच्छे से और इस्तेमाल भी कर सकते है इससे लाभ
होगा

निर्णय जो लोग ठीक नहीं ले पाते या निर्णय लेने के बाद सोचते है की ये निर्णय गलत ले लिया
ऐसे में क्या करना चाहिए

ऐसे में आपको श्री यंत्र की आराधना करनी चाहिए ,श्री यंत्र सिर्फ पैसे को ही नहीं लाता ये पूरी जिंदगी
बदल सकता है श्री यंत्र को सामने रख के उस पे हल्दी अथवा रोली का तिलक करे सफ़ेद या
पीला पुष्प अर्पित करे और उसको माथे से लगाने के बाद श्री यंत्र के मध्य बिंदु पर ध्यान करते करते
आंखे बंद कर ले ऐसी आराधना करने से निर्णय सही होगा
श्री यंत्र की नियमित आराधना करने से आपके निर्णय लेने की क्षमता अच्छी होती है

जिन लोगो के निर्णय सही नहीं निकलते है ऐसे लोगो को भद्रा नक्षत्र में निर्णय नहीं लेना चाहिए
राहू काल में ऐसे लोगो को निर्णय नहीं लेना चाहिये जिस दिन उनकी प्राण दशा में केतु का
प्राण चल रहा हो उस दिन उनको निर्णय नहीं लेना चाहिये

ऐसे लोगो को गंड मूल नक्षत्र जब लगे हो तब निर्णय नहीं लेना चाहिए ऐसे लोगो को निर्णय तब लेना चाहिए
जब अभिजित नक्षत्र हो , जब गुरु पुष्य नक्षत्र हो ,रवि पुष्य नक्षत्र हो ऐसे समय में बड़े निर्णय
ले छोटे मोटे निर्णयों की बात नहीं हो रही इधर ऐसे बड़े निर्णय जो जीवन को प्रभावित करने वाले हो
उनकी बात हो रही है

Tags:AstroUncle