दिवाली पे विशेष धन योग आया हुआ धन रुके

धन योग  28 Oct 2012

कुण्डली के 2,6,9 घर मजबूत होंगे तो धन रुकेगा यदि इनमें से एक भी घर कमजोर होगा तो आया हुआ या कमाया
हुआ धन रुकेगा नहीं
यदि 6 घर कुण्डली का कमजोर है तो कमाया हुआ धन बीमारी या किसी responsibility में चला जायेगा
मंगल राहू शनि धन खींच के ला सकते है रुकेगा तभी यदि आपका बृहस्पति मजबूत है
यदि ये घर कमजोर है तो यंत्र  या  पूजा या मन्त्र जप द्वारा ग्रह मजबूत करना उचित रहता है
आने वाले 5 साल का prediction जिन लोगो के पास रुका हुआ धन है केवल वो ही लोग सफल हो
पायेंगे otherwise sudden loss के योग है
चुकंदर सेहत के लिये फायदेमंद है hemoglobin हेल्थ के लिए फायदेमंद है
किसी प्रश्न का उत्तर विवाह के लिए 108 लडडू से केतु का हवन बुधवार या गणेश चतुर्थी को करे
यदि बहुत जादा लकीरे है हाँथ पे तो आया हुआ धन रुकेगा नहीं
बृहस्पति पर्वत हाँथ पे कमजोर है तो आया हुआ धन नहीं रुकेगा
यदि कुण्डली के छठे  घर का स्वामी दूसरे या नवे भाव में transit करेगा तो भी धन नहीं रुकेगा
बृहस्पति पर्वत कमजोर है तो भी धन नहीं रुकेगा
बुध रेखा टूट रही हो या कमजोर हो या ख़त्म हो तो भी धन नहीं रुकेगा आया हुआ धन भी ख़त्म हो जाता है
जीवन रेखा यदि curved न हो सीधी या कमजोर हो तो भी धन नहीं रुकेगा
भाग्य रेखा लहराकर जाये ऊपर तो धन भी लहराता रहेगा
बुध रेखा यदि कमजोर हो या टूटे बीच में या बहुत रेखा हो हाँथ में तो अचानक कुछ ऐसा
हो जाता है की आया हुआ धन ख़त्म हो जाता है , साढ़ेसाती वगैरह में परेशानी होती है
बाद में भले ही आदमी निकल जाये लेकिन उस समय बहुत कष्ट होता है
किसी के प्रश्न का जवाब त्रयोदशी को रुद्राभिषेक करे कुबेर यंत्र रखे
कुबेर यंत्र या श्री यंत्र रखे और साथ में राम रक्षा यंत्र
इष्ट की विधिवत पूजा करे इष्ट की विधिवत पूजा करने से धन ही नहीं गंभीर संकट भी दूर
हो जाता है
कुछ दान जरूर करे
घर में यज्ञ जरूर करे
पितृ दोष के उपाय नियमित करे
घर में दीमक या चींटिया न हो वायव्य (north  west ) कोण में पानी न रुके
आग्नेय कोण में पानी न रुके
संध्या दीपक जरूर जलाये
 शाम को आरती करे इससे बरकत होती है
सर्पगंध टांगे दीवार पे
काली सफ़ेद गुंजा दाने रखे पूजा में और कनक धारा स्तोत्र नियमित पढ़े
कुबेर पूजन धन लाने में helpful होता है कुबेर को शिव का वरदान प्राप्त है
कुबेर की पूजा यंत्र द्वारा कर सकते है मन्त्र द्वारा भी कर सकते है
धन तेरस ,दिवाली या दशहरे को कुबेर यंत्र को सिद्ध कर ले
घर के आस पास 25 फीट के area में पेड़ first floor या छत से ऊँचा न हो यदि ऐसा है तो ये धन के लिये समस्या है
अष्टलक्ष्मी यंत्र के सामने बैठ कर एक वर्ष तक
ॐ नमः धन दायै स्वाहा मन्त्र से हवन करे (1 वर्ष तक )
घर में पश्चिम की दिवार बाहर न निकले वर्ना धन रुक नहीं पायेगा
चींटी बाम्बी या दीमक न हो घर में ये अच्छी निशानी नहीं है
घर में  तिजोरी जरूर रखे ,
तुलसी जरूर रखे
किसी प्रश्न के उत्तर में  उपाय शनिवार को सरसों के तेल से मिले हुए चने घोड़े को खिलाये
सूर्यास्त के बाद नदी में दवा डाल दे
कुबेर यंत्र की उपासना सोने चांदी अष्ट धातु या कागज़ पे भी हो सकती है भगवान के घर पे
पैसे वाला मामला नहीं है की सोने का ही यंत्र हो कागज़ पे आप अपने हाँथ से भी लिख सकते है
1.25 लाख जप और दशांश हवन से यंत्र सिद्ध कर दे ये यंत्र घर में गरीबी का नाश करता है
यंत्र सामने रख के जप करे
ॐ श्रीं ॐ ह्रीं श्रीं ह्रीं ॐ ह्रीं श्रीं क्लीं वित्तेश्वराय नमः
घर के दक्षिण में स्थापित कर south में मुह कर के पूजा करे
परंपरा पंच प्रदीप से देवी आराधना करने से देवी प्रसन्न होती है विशेषकर शरद और हेमंत ऋतु में
बेर के पेड़ के नीचे दक्षिण मुह कर के 7 दिन में 1.25 लाख जप करे
ॐ वैश्रवणाय नमः मन्त्र से जप करे और 108 आहुति दे
…….बीच में गड़बड़ हो गया कोई मन्त्र बता रहे थे ॐ यक्षाय कुबेराय …….ये वाला मन्त्र incomplete है
रक्षा सूत्र गुरु या माँ या बहन के हाँथ बँधवाना ये अपने आप में एक विलक्षण यंत्र है और धन सम्बन्धी परेशानी
हरता है
श्री यंत्र की पूजा घर में सम्पन्नता और सौभाग्य देती है
कुबेर मन्त्र के जप से कुबेर यंत्र को सिद्ध किया जाता है (करा जा सकता है )
श्री यंत्र को सिद्ध करने की विधि किसी साधक से सीख ले
राम रक्षा यंत्र रखे कुबेर यंत्र और श्री यंत्र घर में धन खींच तो लाये लेकिन उसकी रक्षा करना भी आवश्यक है
Advertisements

विवाह के 15 दिन में करे जाने वाले उपाय

विवाह के पहले 15 दिन और ग्रह 27 Oct 2012

केतु अजीबो गरीब कारणों से मन change करता है
केतु से इन्सान की सहन शक्ति ख़त्म हो जाती है
strong राहू  से बदला लेने की tendency
7th घर का केतु या सातवे घर के राहू से माता पिता के व्यवहार के कारण बच्चो का जीवन
बर्बाद हो जाता है
राहू के चलते वाणी दोष का असर नकारात्मक (शादी के बाद नकारात्मक)
शुक्र सूर्य मंगल राहू शनि दोष के चलते रिश्तो में खटास हो जाती है
राहू के दोष के चलते वाणी दोष उत्पन्न होता है जिससे रिश्तो में खटास होती है
राहू के चलते सम्बन्ध ख़राब होते है
गाज़र में बीटा carotine बहुत होता है गाज़र के सेवन से कील मुहासों में छुटकारा मिल जाता है
राहू के दोष के चलते वाणी दोष उत्पन्न होता है जिससे रिश्तो में खटास होती है
केतु के चलते घर के बड़े लोगो के अहं के चलते के कारण सम्बन्ध खराब होता है
केतु इन्सान को आसानी से समझौता नहीं करने देता
कलह ज्यादा हो तो प्याज के  रस  से रोटी पर जीवन साथी का नाम लिख कर गाय को रात में खिला दे उससे
विश्वास ख़त्म नहीं होता
नशा छोड़ दे नशा राहू शनि को खुला निमंत्रण है
काले और धुंए रंग के कपडे नहीं पहनने चाहिये जीवन साथी को ध्यान में रखते हुए 10 मिनट ॐ ह्रीं का जप करे
माता पिता सफ़ेद फूल अपने पास रखे
राहू काल में खरीददारी avoid करे
जिनका विवाह न हो पा रहा हो वो नहाने के पानी में एक चुटकी हल्दी डाल के नहाये
जिनका विवाह न हो पा रहा हो वो सिद्ध हल्दी की गांठ पहने
शुक्र दोष वाले लडको के case में निम्नलिखित उपाय करे
ॐ नमो नारायण नमो नमः सुबह सुबह जपे
पानी वाला नारियल फोड़कर जल घर में छिडके
रात में जीवन साथी का ध्यान कर उसके चित्र से 2 लौंग उतारे
विवाह के 15 पहले से 7-8 कन्या या बुजुर्ग को कुछ खिला दे
15 दिन दही से स्नान करे शुक्र यदि कमजोर है तो विवाह के 2 दिन के अन्दर ही परेशानी आती  है
कमजोर शुक्र ख़राब माना जाता है
खुद पर विश्वास मतलब आत्म विश्वास
शरद पूर्णिमा के दिन करी गयी साधना विशेष सिद्धि देती है
कई लोगो का मानना है की मंगल दोष 32 साल या एक age के आगे जा के समाप्त हो जाता है ऐसा नहीं है
मंगल दोष के उपाय करते रहे जीवन पर्यंत विवाह करते समय आकाश में कोई क्रूर गृह लग्न में उदय न हो
इस बात का ध्यान रखे जैसे विवाह के समय मिथुन मकर कर्क लग्न हो आकाश में
विवाह कुंडली की लग्न शुभ स्थिति में हो तो मंगल दोष काफी हद तक कट जायेगा
नवमांश के लग्न में चन्द्र सूर्य …….. (नोट नहीं कर पाया )
विवाह के टाइम शुभ लग्न में हो यदि तो झगडे आदि के बावजूद तलाक नहीं होता
मंगल सूर्य चन्द्र ख़राब हो तो  दूध दही शहद गुड दान करे
मंगल वार या रविवार को चावल धो कर बहते पानी में बहा दे चावल थोडा सा हो (एक मुट्ठी से भी कम कोई एक दो किलो चावल नहीं चाहिये )
सोमवार को कोई ठोस गोली माँ या मामा से ले
लाल ईंट का दान करे  (पूजा स्थल या मंदिर या कहीं भी ) यदि शादी हो गयी है तो पति
पत्नी दोनों करे यह कार्य विवाह के पहले 15 दिन के अन्दर ही करे
मंगल दोष वाले लोग 
 
घर के सभी लोग चाँदी का तार  बहा दे अमावस्या वगैरह  को रेवड़ी या बताशे पानी में बहाये
मंगल दोष वाले लोग संध्या दीपक जरूर जलाये ये काम मंगल दोष वाले लोग खुद करे
यदि सूर्य या केतु कुपित तो शादी के समय तक आदमी doubt में रहता है ऐसे में शीशे के टुकड़े किसी निर्जन स्थान
में दबाये
शुक्र को गरीब बच्चे को दूध का दान करे (लड़की अगर रिश्ता तोड़ दे तो )
पूर्णमासी से अमावस्या तक जमीन पे शयन करे थोडा कठिन है लेकिन शरीर कुश के आसन पे touch करता रहे
गणेश जी का नाम ले के खाली घड़ा पानी में बहा दे
मंगल चण्डिका स्तोत्र का पाठ करे
8 छुहारे कुछ रत्ती दाने …..(नोट नहीं कर पाया ……)
लड़के लड़की को नज़र दोष से बचाये
मंगल दोष पितृ दोष वाले लोग अवश्य करे
विवाह के बाद पहली अमावस्या सूखे नारियल में पंचमेवा घी खाण्ड बांधकर गमले में दबा दे
1 साल बाद निकाले ,स्व ऋण या पितृ दोष , या मंगल आठवे घर में हो या love marriage किया हो
तो विवाह के 15 दिन के अन्दर या विवाह के 15 दिन के पहले ये सब उपाय जरूर कर ले
ऊपर लिखा सब कुछ अधूरा है इतना जल्दी जल्दी बोलते है की टाइम ही नहीं मिल पाता लिखने का
ये तो सब ज्योतिष या  कर्म काण्ड है यदि ऊपर वाले की इच्छा नहीं है तो सारे उपाय कर के भी सब
टूट जायेगा  मेरा ये कहने का ये मतलब नहीं है की आप श्रद्धा खो दे या उपाय न करे
1-2 बार उपाय कर के भी लोग भटकते रह जाते है कई बार लोगो को वही उपाय कई बार करने पे
फायदा दे जाता है कब क्या कैसे होगा ये मेरे जैसे साधारण लोग नहीं बता सकते ….
हम लोग किताब पढ़ के उसे समझ के internet पे डाल सकते है होना या न होना भगवान
के हाँथ में है
यदि आप बुरे वक्त से गुजर रहे है तो श्रद्धा अनुसार भगवन का नाम ले के उपाय कर के देख ले
ज्योतिष की किसी किताब में या कोई भी व्यक्ति इस बात की गारंटी नहीं ले सकता की ये सब
उपाय कर के भी आप बिगड़ी हुई चीज़ बना लेंगे इन्सान कर्म कर सकता है फल देना या न देना
भगवान के हाँथ में है, जब पूर्व जन्म के संचित पाप कर्म कट जायेंगे तभी शायद आपको सही उपाय
पता लगे या पूर्व जन्म का किया हुआ कोई पुण्य आपके कठिन समय में उदय हो जाये
तो शायद सही बात/उपाय पता लग जायेगा वरना इन सब उपायों को करते करते आप भटक
जाओगे मैंने ये सब अच्छे इरादे से लिखा है कोई जरूरी नहीं है की इनमें से कोई भी चीज़
काम करे सारे ग्रह विपरीत होने पे भी वो ऊपर वाला जिसका चाहे काम बना दे बिना किसी
उपाय के और जिसका चाहे सब कुछ सही होते हुए भी काम बिगड़ जाये
lecture देना आसान है जिसपे बीततीहै वही जानता है
मैं नहीं जानता की इन उपायों को करने से क्या होगा लेकिन इस उम्मीद से लिख दिया है की
यदि किसी का जाने अनजाने फायदा हो जाय तो बहुत अच्छा है भगवान आपका भला करे

astrology links miscellaneous

online hindi panchang
विद्या प्राप्ति में बाधा के योग
http://gurutvakaryalay.wordpress.com/2011/02/07/विद्या-प्राप्ति-में-रुका/
दुर्गा पूजा गृह शांति के लिए http://vinayakvaastutimes.mywebdunia.com/2012/09/28/1348831440000.html

http://hi.wikipedia.org/wiki/शनि_(ज्योतिष)

ganpati sahastranam
rudravtar bhairav
fraud cases
lecture jo pasand aya
Italian
aeronautical science
shudr tapasya wala example
manmohan singh birth day
Mulayam Singh leaning
anant kal sarp yog
Maths research
Wall mart gives bribe new york times
Bheeshm Pitamah Shar Shaiya katha
shivling mudra
soraisis
anta goonthne ka pind pret pitro
Nehru and azad story
nakshatra panchak etc
swamy ramdev ke pita
mahakali mantra
nariyal with Shani Rahu Ketu
thorium loot ghotala
ganesh ji
panini vyakaran
brihaspati dev mandir
hariakhan baba
hanuman story of ramayan mantra change
bhairav stotra
नवरात्री और वास्तु का रिश्ता
http://zeenews.india.com/hindi/news/ज़ी-स्पेशल/नवरात्र-और-वास्तु-का-आपसी-रिश्ता/150895
छिन्नमस्ता पूजा
दस महाविद्या पूजा
मिथुन लग्न प्रथम भाव राहु

astro uncle tips for नवरात्री pooja

नवरात्री astro  uncle live phone 0120-4807333 the show comes on Saturday and Sunday 21:30 hours on Tezz Aaj Tak Channel which is

available with home cable operators but not with DTH connections or set top box based connections.

घर का एक आदमी भी विधि से पालन कर ले नवरात्री का पूजन
करे तो उससे भी घर परिवार का भला हो जाता है
पितृ पूजा के बाद बंदनवार लगाये दीपदान अदि करे देवी के बाएं (left side  ) तरफ
में दिया स्थापित करे दाहिनी ओर गंध प्रज्ज्वलित करे ,कलश स्थापना करे कलश स्थापना
से चीज़े पलटती है ऐसा विश्वास है ,अखण्ड ज्योति जलाये ,पूजा में प्रसाद जरूर होना चाहिये ,
माँ के दाहिनी ओर कलश स्थापना करे कलश के ठीक सामने मिट्टी और जौ बो दे ,ध्यान रखिये
यदि आपके ऊपर तंत्र प्रयोग है तो ये जौ ऊग नहीं पाएंगे ,माँ का आवाहन करे शंख बजाये ,
नवरात्री में यंत्र या सुपाड़ी सिद्ध करे दुर्गा सप्तशती का पाठ करे
ॐ हुम फट स्वाहा इस मंत्र से निर्दयी लोगो से आपकी रक्षा करेंगी माँ
बुरे ग्रहों के लक्षण promote करने से अच्छे ग्रह फल नहीं देते जैसे यदि क्रोध एक क्रूर या
बुरे ग्रह का लक्षण है ऐसा करने से आप बुरे ग्रह का लक्षण promote कर रहे है इससे शुभ ग्रह
आपको फल नहीं दे सकेगा
ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे वा दुर्गे दुर्गे रक्षिणी स्वाहा
बलि का अर्थ मानसिक या कार्मिक बलि होता है
उपवास कई प्रकार के होते है
एक भक्त उपवास सूर्यास्त से पहले खाना खा ले
नक्त उपवास सूर्योदय से 1.5 मुहूर्त में खाना खा ले
अयाचित उपवास
एक बार भोजन करे वो भी बिना किसी से मांगे जो कुछ भी कोई दे दे वही भोजन कर ले और वो भी एक बार
यदि उपवास टूट जाये तो
तुरंत मुह से अन्न निकाल दे उलटी करे
ज्योतिषीय उपाय या अनुष्ठान बीच में टूट जाये तो उसे पुनः शुरू से शुरू करे
बीच में जो छूटा उसे 1 कम मत count करे
ॐ ह्रीं दुं दुर्गायै नमः  (सर्व बाधा मुक्ति मन्त्र)
यदि परिवार काफी परेशानी में है तो
सर्व मंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते
ये ऊपर वाला मन्त्र दो रूपों में मिलता है निचे गीता प्रेस गोरखपुर वाली किताब के सप्तश्लोकी  में जैसा दिया है वो है
सर्वमङ्गलमङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके । शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तुते ॥
उच्चारण किसी से पूंछ के करे
वाणी दोष किसी भी प्रकार का हो यदि समय पे अपनी बात कह न पाते हो तो नवरात्री में 1.25 लाख जप निम्नलिखित
मन्त्र का कर ले
ॐ वाग्वादिनी स्वाहा (माँ वागेश्वरी की साधना है ये ) कमलगट्टे की माला से जप होगा
शुद्ध घी के आटे  के 9 दीपक बना ले सूत का धागा अपनी लम्बाई के बराबर ले ले और वो दिए में बत्ती के स्थान पर प्रयोग करे (रुई की बत्ती नहीं )
ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे 11 माला जप ले
This is an approximate write up of what I could recollect from the Astro Uncle live show which was for Navratri Oct 2012

कुंडली के अनिष्ट ग्रहण योग (astro uncle 13 अक्टूबर 2012, पितृ पक्ष की त्रयोदशी ) (malefic yogs of horoscope)

कुंडली के अनिष्ट ग्रहण योग (astro uncle 13 अक्टूबर 2012, पितृ पक्ष की त्रयोदशी )

ग्रहण योग के लक्षण

1) दूसरो  को दोष देने की आदत
2) वाणी दोष से सम्बन्ध ख़राब होते जाते है ,सम्बन्ध नहीं बचते
सप्तम भाव का दोष marriage सुख नहीं  देता
प्रथम द्वितीय नवम भाव में बनने  वाले दोष भाग्य कमजोर कर देते है ,बहुत ख़राब कर देते है लाइफ
हर चीज़ संघर्ष से बनती है या संघर्ष से मिलती है ,
मन हमेशा नकारात्मक रहता है ,
हमेशा आदमी depression में रहता है,
कभी भी ऐसे आदमी को रोग मुक्त नहीं कहा जा सकता
उपाय के तौर पे त्रयोदशी को रुद्राभिषेक करे specially  शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को
पैरो में दर्द होना , दूसरे  को दोष देना ,खाने में बल निकलते है ,
खीरा कब्ज दूर करता है ,liver  मजबूत करता है ,पित्त रोग में फायदा करता है ,जो लोग FAT कम करना चाहे  उनको
फायदा करता है, किडनी problems में फायदा करता है
ग्रहण योग वाले आदमी के पास काफी उर्जा होती है यदि वो उसे +वे कर ले तो जीवन में अच्छी  खासी सफलता मिल जाती है
ग्रहण योग के लक्षण घर में अचानक आग लग जाये या चोरी हो जाये ,
चन्द्र+केतु ,सूर्य+राहू ग्रहण योग  बनाते है (बाकि योग लिख नहीं पाया इस document  में)
ग्रहण योगो को +ve  करने का तरीका
गुरु के सानिध्य में रहे ,
मंदिर आते जाते रहे ,
हल्दी खाते रहे ,
गाय के सानिध्य में रहे ,
सूर्य क्रिया चन्द्र क्रिया दोनों नियमित करे ,
————————————————
दरिद्र योग — अरबो की सम्पति खाक कर देगा ,
 चलता हुआ व्यापार या job  भी नहीं रुकता ,
लग्न और 12th भाव में यदि कोई सम्बन्ध बने तो यह योग बनता है ,
यदि बृहस्पति मजबूत हो तो ऐसे लोग साडी जिंदगी दरिद्र तो रहते है लेकिन जीवन
समाज के लिए जीते है , कुंडली के चतुर्थ और अष्टम भाव में से भी यह योग बनते है,
मंगल राहू शनि दरिद्र बना सकते है, राहू  शनि घोर कष्ट दे देंगे ,12th  house में
चंद्रमा after marriage गरीबी दे देगा ,
व्यक्ति अपने अहम् के कारण सब कुछ लुटा देगा ,भाग्य रेखा लहरदार हो या शनि पर्वत
की तरफ जा रही हो तो संपत्ति बच नहीं पाती ,
विवाह के बाद संपत्ति बच नहीं पाती ,प्रेम न करे ,प्रेम सम्बन्ध में लोग बर्बाद हो जाते है ,
दरिद्र योग में कुंडली में चतुर्थ और अष्टम भाव से भी बनता है ,
भाग्य रेखा यदि जीवन रेखा से दूर हो तो
घर से कुछ न मिलने के कारन आदमी दरिद्र हो जाता है ,
जीवन के 28वे , 36वे ,42वे वर्ष में बहुत परेशानी होती है ,
दरिद्र योग वाले घर से दूर जा के कम करे तो सफल हो जाते है ,
प्रेम सम्बन्ध के चलते धन बर्बाद होता है
उपाय के तौर पे श्री यंत्र रखे , षोडशी यन्त्र रखे
बेलपत्र अशोक आक या बरगद के 11 पत्तो पे ॐ लिख के शुक्ल पक्ष की नवमी को प्रवाहित कर दे
अद्भुत उपाय है ,(दरिद्रता योग का भी) ,
घर के पश्चिमी हिस्से की सफाई करे ,मंगल वार शनिवार को श्रम दान करे ,
चांदी का चौकोर टुकड़ा अपनी जेब में रखे यदि माँ के हाथ से मिला हो तो और भी अच्छा  है ,
संपत्ति अपने नाम से न रखे किसी और को पार्टनर बना ले या किसी और के नाम पे रख दे ,
कुत्ते की सेवा करे पैसा किसी शुभ काम  में खर्च  करे ,
12th  house  में शुक्र मंगल के चलते या दूसरे भाव का चंद्रमा दरिद्र योग दे देता है,
————————————————————————————————————————————————
सारे नौ गृह सही हो जाये उसका उपाय मंत्र
ब्रह्मा मुरारी स्त्रिपुरान्तकारी भानु: शशि गुरुश्च शुक्रः शनि राहू केतवः (mantra is incomplete here)
ब्रह्मा मुरारी स्त्रीपुरान्तकारी भानु शशि भूमि-सुतो बुधश्च।गुरुश्च शुक्र शनि राहु केतव: सर्वे ग्रहा शांति करा भवंतु।।
——————
विदेश यात्रा में बाधा के योग
कथा एक आदमी का पवन सिन्हा को अपना हाँथ दिखाया की मैं विदेश यात्रा पे जाऊंगा की नहीं वो बोले नहीं
आदमी को थोडा गुस्सा आ गया वो बोला कल सुबह 11 बजे की तो मेरी flight है ,astro  uncle पवन सिन्हा बोले
हो सकता है मुझसे गलती हो गयी हो कुंडली देखने में कोई बात नहीं गलती सब से होती है ,
4 दिन बाद उस आदमी का फ़ोन आया पवन सिन्हा के पास पवन जी बोले की ये क्या विदेश का नंबर है वो बोला नहीं
मैं यही हूँ और मेरा accident  हो गया था मैं जा नहीं पाया ,
कहने का मतलब ये है की आदमी निकल नहीं पता है airport  जा के लौट आता  है विदेश यात्रा में बाधा के योगो से ,
शुक्र आठवे या तीसरे घर में हो या मंगल शनि के साथ हो तो ऐसे लोग हवाई अड्डे पे जा के लौट आते है,
ऐसे आदमी के घर पे चोरी या आग लगने की घटना होती है ,घर की लडकिया परेशां रहती है,
ऐसे लोग पर स्त्री पर पुरुष की सलाह से काम न करे
शनिवार को नमकीन वस्तु  या नमक  का दान करे
उड़द की दाल  न खाए
मंगल शुक्र को शुभ काम  न करे
शुक्ल पक्ष में —(बात अधूरी रह गयी)
ऐसे लोग exporter  न बने
शुक्र अस्त हो तो शुभ कार्य न करे
————————————————————————
वेशी योग सूर्य के आगे शनि या मंगल हो तो वेशी योग होता है
ऐसा आदमी तंत्र प्रयोगों का शिकार आसानी से हो जाता है ,
विपरीत लिंगी के कारन जादा परेशानी होती है ,
उन्नति नहीं होती या बहुत धीरे होती है,
उसके जुनिओर्स या उससे कम जानकारी के लोग उससे आगे तरक्की करते
निकल जाते है ,तांत्रिक चीजों की वजह से आसानी से प्रयोगों का शिकार हो
जायेगा
सूर्य के शनि या मंगल दोनों के केसेस में result  अलग अलग होते है
मंगल के कारण वेशी योग हो तो ऐसा आदमी धन बहुत कमाता है लेकिन कंगाल हो जाता है,
बुढ़ापा काटना मुश्किल हो जाता है , सरकारी तंत्र से  लाँछन लग जाता है झूठा आरोप,
पत्नी या बच्चे प्यार नहीं करते केवल रिश्ता निभ जाता है ,बीमारी हो जाये यदि
तो इलाज नहीं करा पाता  बुढ़ापे में
—————————————————————————————————-
शनि के कारण वेशी योग हो तो just  उल्टा होता है मंगल के कारण  वेशी योग के results  के comparison  में
खाने में कंकड़ या बाल मिलते है ,
वेशी योग के उपाय
सूर्य क्रिया सीख कर करे नियमित
गायत्री यज्ञ करे ईंट या पके भोजन का दान करे मंगल और शनिवार को
गर्व या घमंड न करे अहंकार न करे
मंगल वार को जमीन पे सोना है
थोड़ा  सा मीठा खा के पानी पिए
किसी को धोखा न दे प्यार में , बहुत प्रॉब्लम हो तो  नाक
 छिदवा  ले मुफ्त का सामान न ले किसी से,
दिल पे पत्थर रख के किसी का धन यदि कब्ज़ा किया हो तो वापस करे दे जो आपका नहीं है वो
न ले ,
—————————————————————————————————-
जीवन में रोग होने वाले योग चन्द्रमा के आगे राहू या शनि हो तो जीवन भर रोगी
6th house शनि हमेशा आदमी रोगी ही रहेगा ,
बहुत संयमित जीवन जिए उगते सूर्य का स्वागत करे देर रात न सोये ,
उगते सूर्य को प्रणाम करने से गुरु को उस टाइम प्रणाम करने से शनि की साढ़ेसाती ढैया भी आराम से
निकल जाती है,
छल्ला  शनिवार को मध्यमा में पहने
—————————————————————————————————-
गुरु चंडाल योग का उपाय
ऐसे आदमी का चरित्र भ्रष्ट हो सकता है अति महत्वाकांक्षा में नुकसान हो सकता है
नारायण की पूजा करे ,गुरु की सेवा करे
(malefic yogs of horoscope)
Tags: Astro Uncle

pitr dosh astro uncle show एस्ट्रो अंकल पितृ दोष

एस्ट्रो अंकल पे पितृ दोष का विशेष प्रोग्राम उसकी मेन मेन  बाते

show was telecasted on 7th october 2012 , coming 15th october is pitr
amavasya person can get rid of all kind of pitr dosh

पितृ दोष के लक्षण
१) घर में कलह का होना
२) घर के सभी  पुरुषो कि कम समय में मृत्यु होना
३) बड़ी मुशकिल से पैसा आना धन कमाने में नाको चने चबाना पड़ जाता है पितृ
दोष वाले  लोगो को
४) घर के लोग जब सब एक साथ होंगे तो कुछ तर्क कुतर्क करते रहेंगे लेकिन
जैसे ही दूर जायेंगे तो
सब ठीक हो जायेगा
५) सब कुछ ठीक होने के बावजूद भी चीज़े गड़बड़ होंगी (ऐसा लगेगा ये सिर्फ
मेरे साथ ही क्यूँ हो रहा है)
६) नौकरी व्यापर मेन तरक्की रुक जाती है छात्र होंगे तो पढाई पूरी नहीं कर पाएंगे
७) बनते हुए काम बिगड़ जायेंगे  किसी प्रकार से आदमी मेहनत कर भी
ले तो बिना रुके या अटके काम पूरा हो ही नहीं पता है ऐसी ऐसी बढ़ाये आयेंगी कि
आदमी सोच भी नहीं सकता
८) परिवार में जो पुरुष रहा हो वो बहुत कम उम्र में expire कर गया हो या बहुत
संघर्ष करा हो
९) घर के सब सदस्य आपस में झगड़ते रहेंगे तर्क  बहुत करेंगे और मजबूत
पितृ दोष वंश का बढ़ना रोक देगा
१०) कितना भी मेहनत कर लोग पितृ दोष घर में धन रुकने ही नहीं देगा घर में
सूनापन महसूस होगा ,
बीमारी लगी रहेगी घर के लोगो को  पेड़ पौधे जानवर मर जायेंगे , घर की
दीवारों पे पेड़ उगने लगेंगे

११) वही लोग जो आपस में खूब झगड़ेंगे यदि वो दूर चले जायेंगे तो मेल जोल हो
जाता है और सब ठीक हो जाता है
१२) पितृ दोष वाले बच्चो  की एकाग्रता काफी कम हो जाती
है

ऋण दोष वंश दोष आदि आदि दोष इसमें और आग में घी डालने का कम करते है
स्त्री दोष वाणी दोष
यदि ऐसे लक्षण है किसी व्यक्ति के साथ तो ये मान के चले कि वो परिवार
पितृ दोष से प्रभावित है कुछ उपाय जो करने चाहिए

प्रतिदिन पूर्वजो को जल दे पहले सूर्य को जल दे फिर पितरो को जल दे
दक्षिण दिशा में मुह कर के पितरो को जल दे
ॐ पितृ देवताभ्यो नमः या ॐ सर्व पितृ देवताभ्यो नमः मंत्र पढ़ के जल दे
पितरो से क्षमा मांग ले वैसे भी किसी गलती के लिए किसी से
क्षमा मांग लेने से बृहस्पति मजबूत होता है और leadership की स्किल्स आ
जाती है जिन भी लोगो का
बृहस्पति मजबूत होता है उन्हें समाज से सम्मान मिलने लगता है किसी गुरु
या गुरु सामान व्यक्ति के सान्निध्य में रहे
यदि उनसे सम्बन्ध ख़राब हो गया हो तो पुनः सम्बन्ध जोड़ ले गुप्त दान करे
मंदिर निर्माण के लिए पैसा दे एक ईंट भी
दान में गिनी जाएगी , किसी मंदिर जहाँ किसी नाराजगी की वजह से जाना बंद
कर दिया हो वहां जाना पुनः शुरू
कर दे otherwise ये कुंडली में कुछ ऐसे योग बना देंगे जिससे विशेष प्रकार
के दोष उत्पन्न हो जायेंगे
पितृ दोष के केसेस में
usually होता ये है की बृहस्पति कमजोर  हो जाता है या अपना शुभ फल उतना
दे नहीं पाता

१) एकादशी और द्वादशी को पितरो का ध्यान करे ध्यान  में पितरो को याद करे
उनसे क्षमा मांगे जाने
अनजाने कोई अपराध हो गया हो तो द्वादशी वाले दिन का उपाय मंगल दोष को भी
काट देता है
सिर्फ ध्यान लगा लेने से चीज़े बदलने लगती है पूजा का बाह्य आडम्बर नहीं
चाहिए होता है

२) पितरो कि शांति के लिए गायत्री का पाठ या शांति पाठ जरूर करे , तर्पण
क्षमा प्रार्थना ,
मंदिर और ब्रह्मण को दान करे , गाय कुत्ते कौवे कि सेवा जरूर करे सब कुछ
ठीक होने के बावजूद
यदि गड़बड़ है तो ये ऋण दोष के कारण भी हो सकता है
केतु बुध और बृहस्पति के कारण होने वाला ऋण दोष बड़ा गंभीर ऋण दोष होता है

३) संतान दोष — संतान से सम्बन्ध ख़राब हो जायेगा या संतान होगी ही नहीं
, पहले तो संतान होना काफी
मुश्किल हो जाता है ऐसी कुंडलियो में और यदि हो भी जाये तो संतान घर से
दूर चली जाएगी या
संतान से आपका सम्बन्ध ख़राब हो जायेगा

४) पितृ दोष के कारण बृहस्पति भी ख़राब स्थिति में पहुँच जाता है ऐसे में
समाज में कोई आपको नोटिस
नहीं करेगा  आप लोगो  के बीच में होंगे लेकिन लोग आपसे कन्नी काट के
निकाल जायेंगे या लोग आपसे
कटने लगते है

५) हर अमावस्या को पितृ दोष का उपाय कर लिया जाये तो अछा रहता है यदि ये
ना हो सके तो कम से कम
साल में एक बार जो पितृ पक्ष वाली अमावस्या होती है उसमें जरूर कर लिया
करे जिन भी बचो  को पितृ दोष हो वो
भी उपाय कर ले वरना पितृ दोष केवल भटकाव के ओर ले जाता है ,

६) पीपल का या केले का पेड़ लगाये (केले का पेड़ घर में नहीं लगाये ) गाय
कुत्ते कौवे का ग्रास निकलने के बाद शाम को दिया
जलाये पूर्वजो के लिए , कुष्ठ रोगियों कि सेवा करे घर कि महिलाओ का सम्मान करे

७) त्रयोदशी को पितरो से क्षमा मांगे शिव जी की भी पूजा करे
८) कुछ धार्मिक अनुष्ठान करे जीवो को कष्ट देने पे पितृ दोष इसी जन्म में
कष्ट देगा और ऋण दोष आपके बनते हुए सारे काम
बिगाड़ देंगे  बनता बनता काम रुक जायेगा अडचने आयेंगी आपके काम के पूरा होने में
९) प्रतिदिन पूरवजो का तर्पण करे
१०) सौ गायो को एक साथ एक ही दिन में चारा खिलाये वर्ष में एक बार ऐसा करे
११) अमावस्या के दिन परिवार के  सभी  लोग नारियल प्रवाहित कर दे  जल में
(नदी में)
१२) साल में एक बार पितृ विसर्जनी अमावस्या के दिन ये उपाय जरूर करे घर के सब लोग
एक साथ बैठे एक हवन करे सब लोग एक नारियल , एक हल्दी की गांठ , एक रुपये
का सिक्का ले के सब लोग बैठे ,
घर का मुखिया हल्दी की माला ले ले फिर देवताओ का आवाहन करे , पितरो का
आवाहन करे , पितृ गायत्री का पाठ करे ,
ॐ ग्रां  ग्रीं  ग्रौं सः गुरुवे नमः मंत्र की ५ माला जप कर के आहुति दे
हवन सामग्री से
फिर जो हल्दी की गांठ लोगो ने हाँथ में पकड़ रखी थी वो और १ रुपया जो हवन
के दौरान सब लोगो के पास था ले जा के
मंदिर में दान कर दे और नारियल सब लोग पानी में बहा दे पूरा कुटुंब इसमें
शामिल हो तो अछा रहेगा
वरना जितना हो जाये उतना अछा

जिस भी व्यक्ति ने पितृ दोष को शांत कर लिया तर्पण किया तो वर्ष भर के
अन्दर उसके कुछ रुके हुए कम पूरे होंगे साल
भर में कुछ अछा होगा , और ये ना भी हो तो वो negative में जाने से बचेगा

हो सकता है दोष immediately प्रभाव ना दे लेकिन समय आने पे प्रभाव देने लगेगा
इसलिए उपाय कर ले तो अछा रहेगा जिन लोगो को कडवे अनुभव हो चुके है वो तो
समझ सकते है
लेकिन बाकी लोगो को समझ देर से आता है जब आदमी का टाइम अछा होता है तो वो
ज्योतिष  को भगवान को
कुछ नहीं मानता लेकिन जैसे ही टाइम ख़राब हो जाता है सब कुछ समझ आ जाता है

पितरो का तर्पण बहुत आवश्यक है , ऐसे लोगो को एकादशी श्राद्ध जरूर करना
चाहिए , एकादशी को
चावल या हल का दान करे आज क़ल के ज़माने में हल का दान नहीं हो पता लेकिन जितना हो
जाये उतना ही कर ले ,

अमावस्या के दिन परिवार के  सभी  लोग नारियल प्रवाहित कर दे  जल में  (नदी में)
दोषों से बचना मुश्किल होता है क्यूंकि इन दोषों का दुष्प्रभाव होता जरूर है
लेकिन जितना हो सके उतना कम कर देना चाहिए और गंभीर दोषों में तो दोष को
कम करने में वक्त
लगता है  सो उपायों से एक दम से  परिणाम नहीं आता लेकिन धीरे धीरे चीज़े
सही होती चली जाती है

इस दोष से प्रभावित व्यक्ति को अपनी योग्यता अनुसार नौकरी या तरक्की नहीं
मिल पाती है
वो सारी जिंदगी संघर्ष करते रह जाते है और बाधाये   उनका पीछा नहीं
छोड़ती बनते बनते काम बिगड़
जाता है लोग चुगली कर देंगे लास्ट मोमेंट पे ऐसे में आदमी को इसके उपाय
कर जरूर लेने चाहिए
और जीतना हो सके उतना अधिक कर ले , पितृ दोष से मुक्ति केवल अध्यात्म और
साधना से मिल सकती है

जो उपाय टीवी पे नहीं बताये लेकिन अन्य जगहों पे है
१) श्री मद भागवत पुराण पढ़ के उसका फल पितरो को दे दे और भगवान से
प्रार्थना करे कि पितरो को मुक्ति दे दे वैकुण्ठ दे दे
२) गीता पाठ का फल पितरो को दे दे उनके (पितरो ) के नाम से पूजा वगैरह कर दे
३) पितरो के नाम से मंदिर में गुरु के स्थान पे दान करे सेवा करे मंदिर
के प्रपंच में ना लगे सामाजिक स्थल जैसे मंदिर कि साफ सफाई सेवा करे

Tags: Astro Uncle

पितृ पक्ष राहू उपाय astro uncle rahu bante hue kam bigadne ke upay

पितृ पक्ष राहू उपाय  as per astro uncle show telecasted on 6 October 2012 following symptoms,

highly qualified person having many degrees of computers but unable to get a job worth his qualification for next 40 years of his life,
the person even qualified IAS reached the interview stage but on last moment his work got spoiled this happened with him through out his life,
wanted to do jobs in good universities but could not get job worth his qualification, finally settled in a teaching job worth 2000-3000 Rs per month,
in a school teaching profession,  reached astro uncle and the following remedies were suggested to him by astro uncle
भैंसा (male buffalo ) को कमल ककड़ी (कमल के फूल कि डंडी ) शनिवार को १ साल तक खिलाया उस आदमी ने
शनिवार को दूध का दान सोमवार को तेल का
मंगल को हनुमान जी कि पूजा और हनुमान जी को मंगल को चमेली का तेल  का  दिया  जलाये
पितृ दोष का उपाय
the person whose story was broadcast on TV was told to suffer failures every 2-3 month in his life for at least 20 years and could not get a job worth his qualification until he started the above mentioned remedies, his kids were highly bright but could not face any competition because of lack of money,his life changed when he started doing above kind of remedies but 40 years of his life he suffered,
जब टाइम अछा होता है तो लोग भगवान को ज्योतिष को नहीं मानते  है जिस दिन वक्त ख़राब आता है उसी टाइम आदमी को सब कुछ समझ आ जाता है
symptomps of malefic Rahu
person will talk too much but will not do any work even remedies,
will give some kind of logic or anti logic while talking with people
Rahu makes a person -ve would have started at least 20 different type of work but even 1 would not have reached its last stage,
the excitement to do work will end all of a sudden,
इनसे बचने के लिए ५१ कौड़िया पीले घी से जला के राख बहते पानी में बहा दे अपने जन्म दिन वाले दिन
काम से काम ४३ दिन कौवे को भोजन कराये रोटी वगैरह (ये राहू को सुधारने का उपाय है)
मांसाहार नशा ना करे , मसाले कम से कम खाए कच्ची सब्जी खाए , पेड़ से तोड़ कर पत्ते खाए
मिटटी में नंगे पैर चले , मंगल को हनुमान चालीसा पढ़े और जमीन पे सोये
सही समय पे सही निर्णय ले पाने कि क्षमता भगवान हर किसी को नहीं देता ग्रह सबसे पहले आदमी कि बुद्धि नष्ट कर देते है
भगवान अपने ऊपर दोष नहीं लेते कि तुम्हे बुद्धि दी थी विवेक दिया था निर्णय ले लेते ये सब उपाय वहां मदद करेंगे वरना
राहू आदमी कि जिंदगी ख़राब कर देता है at a later date in life samajh nahi ata ki akhir jindagi bhar karna kya chah rahe the,
शादी में लोग भांजी मार देते है चुगली कर देते है काम बिगड़ जाता है  ये सब पितृ दोष के लक्षण है यदि ऐसा है तो ये करे
अपना काम सबको ना बताये कि क्या करने वाले है ऐसा करने से पहले गणपति १००० नाम पढ़ लिया करे और उसका यज्ञ कर दे
१०० गाय को एक साथ एक ही दिन में कोशिश कर के भोजन करा दे
अपना काम पूरा होने तक गणेश जी को लड्डू चढ़ाते रहे
शादी तय होने पे अपने किसी व्यक्तिगत कपडे में गांठ बांध ले और वो गांठ शादी के बाद ही खोले
Promotion mein problem ho boss se patri na kha rahi ho boss ke karibi ho ke bhi boss apko recommend nahi kar raha to
 किसी टूटे फूटे पूजा स्थल को ठीक करने के लिए गुप्त दान करे बहुत से लोग जो ऊँचा पहुँचने कि काबिलियत रखते है वो कामयाबी हांसिल कर नहीं पाते
मामूली इन्सान बन के रह जाते है वो लोग ये उपाय करे किसी टूटे फूटे स्थान पे गोपनीय रूप से दान करे  एक  ईंट  भी दान में count होगी आदमी
लाख intelligent हो कोई उसकी बात मानने सुनने को तैयार नहीं होगा
ज्योतिष या अध्यात्म का मूल आदमी का सहस बढ़ाना होता है कि वो भाग्य को पलट दे हिम्मत आ जाये सही निर्णय लेने कि क्रिया योग यही सिखाता है
promotion और तरक्की व्यापर में बढ़ाये आये तो क्या करे
साल में एक बार चांदी इकठ्ठा करे और गंगा तट पे बहा दे
शुक्ल पक्ष कि नवमी को श्री सूक्त का पाठ कर ले
कोई व्यक्ति जान बूझ के  आपका काम बिगड़ता चला जा रहा है तो  गले में अश्वगंध की जड़ पहन के
ॐ हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुम फट का लाल चन्दन की माला से जप करे
और ये तब तक करे जब तक वो व्यक्ति आपका काम ना कर दे
घर खरीदना चाहते है और खरीद नहीं पा रहे ऐसे लोग अपना दांत साफ रखे
महत्व पूर्ण
 काम यदि अटक अटक के हो रहा हो तो सारा काम शुक्ल पक्ष की पंचमी , षष्ठी , सप्तमी ,अष्टमी, त्रयोदशी या पूर्णमासी को प्रारंभ करे
कर्म हानि योग – मेहनत का कोई परिणाम ना निकाल पा रहा हो तो आदमी अपने लिए लाख मेहनत कर ले कोई दूसरी रुकावट सामने आ के खड़ी हो जाएगी
ऐसे में चतुर्थी,नवमी अमावस्या को कोई काम शुरू ना करे किसी की मदद भी ना करे इन तिथियों को ,
बृहस्पति वार को गुरु के सानिध्य में महत्वपूर्ण  काम शुरू करे